Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा के आरटीए दफ्तरों में फैले भ्रष्टाचार पर मुख्यमंत्री ने बोला हमला, जानिये क्या कहा

प्रदेश में लगातार भ्रष्टाचार के मामले बढ़ते जा रहे हैं। हरियाणा में जिस प्रकार यह मामले बढ़ रहे हैं उनको रोकने के लिए अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल खुद आगे आये हैं। उन्होनें हरियाणा के रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी दफ्तरों में फैले भ्रष्टाचार पर जबर्दस्त हमला किया है। अब पदनाम आरटीए के स्थान पर जिला परिवहन अधिकारी कर दिया है।

जिस प्रकार एक दम सीएम ने हमला बोला है इस से बड़े – बड़े अधिकारीयों की नींद उडी हुई है। अब डीटीओ पद पर किसी भी क्लास वन अफसर की तैनाती हो सकेगी। अभी तक आरटीए सचिव पद पर एचसीएस या आईएएस ही नियुक्त होता है।

खट्टर ने जो कदम अब उठाया है उसको पहले से उठा लेना चाहिए था। आपको बता दें अब तक, आरटीए सचिव का काम अतिरिक्त जिला उपायुक्त को दिया हुआ है। मनोहर लाल ने शनिवार को ये घोषणाएं की हैं। उन्होंने कहा कि नवरात्रों के शुभ अवसर पर शुद्धिकरण का काम शुरू कर रहे हैं। आरटीए दफ्तरों में भ्रष्टाचार की गुंजाइश है।

सीएम बहुत आक्रामक तरीके में दिखाई दिए जो अधिकारीयों की नींद उड़ाने के लिए बहुत था। उनके मुताबिक, करीब 250 दलाल किस्म के लोग इन दफ्तरों में काम करवाते हैं। डीटीओ के पास अब न केवल कॉमर्शियल वाहनों की चेकिंग, पासिंग समेत दूसरे काम होंगे बल्कि जिले में पार्किंग व्यवस्था बनाने, शहरों में ट्रांसपोर्ट नगर बनाने का काम भी होगा।

दलाल पहले अपनी कमीशन लेते हैं उसके बाद ही कोई काम होता है, जिस से सरकार का नाम ही ख़राब हो रहा है। अब से डीटीओ किसी भी क्लास वन अफसर को लगाया जा सकेगा। इनमें आईपीएस, एचपीएस, एचएफएस या अन्य क्लास वन अफसर शामिल हैं। इस समय परिवहन आयुक्त कार्यालय में 627 का स्टाफ है, इसे बढ़ाया जाएगा और एक साल में नई भर्ती कर ली जाएगी।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More