Pehchan Faridabad
Know Your City

मिलेगा पैसा ही पैसा: दिवाली से पहले खाते में आ जाएँगे इतने रुपए, जानें पूरी डिटेल

मिलेगा पैसा ही पैसा: दिवाली से पहले खाते में आ जाएँगे इतने रुपए :- इस दीवाली आपके बटुएं में भी हो सकता है पैसा, जी हां ऐसा हो सकता है क्योंकि ऐसा मुमकिन है। देखिये बीते कई महीनों से लगातार जी महामारी की वजह से न सिर्फ पूरा देश बल्कि पूरा विश्व जूझ रहा है, आर्थिक तंगी का शिकार पूरा विश्व हुआ है।

व्यक्तिगत इंसान की बात की जाए तो लगभग सभी इस धरती पर महामारी के चलते प्रभावित हुए है, सभी की रोजीरोटी पर संकट आया है।

seven indian rupee banknotes hanging from clothesline on clothes pegs
Photo by Disha Sheta on Pexels.com

सभी के लिए समस्याएं खड़ी हुई है। और तो और कई लोगों के घर, व्यपार, कई लोगों की जिंदगियां तक दांव पर लग गयी है लेकिन अब जैसे- जैसे त्योहार नजदीक आते जा रहे है वैसे- वैसे पूरी स्तिथि जो है वो कंट्रोल में आती हुई नजर आ रही है। सभी जिंदगी पटरी पर आती हुई नजर आ रही है।

कही न कही एक उम्मीद की धुंधली सी किरण ही सही लेकिन आशा के साथ तब्दील होती हुई नजर आ रही है। ऐसा लग रहा है कि मानो अब जो संकट के बादल है लगभग छटने वाले है।

क्योंकि ईपीएफओ केंद्रीय बोर्ड ने सितंबर में कहा था कि 31 मार्च 2020 को खत्म हो रहे वित्त वर्ष की ब्याज के भुगतान साल के अंत तक दिया जाएगा।

इस योजना में ब्याज को पहले 8.15 फ़ीसदी और फिर 0.35 फ़ीसदी के दो भागों में बांट दिया जाएगा। वही इसका भुगतान दिसंबर तक किया जाएगा। हालांकि लॉकडाउन की वजह से तमाम जो बैंक है उनपर भी जो फंड का संकट है वो पड़ा है और बहुत सारी समस्या का सामना बैंकों को भी करना पड़ा है।

इसकी वजह से बैंक तो प्रभावित हुए ही है साथ ही साथ उनके जो ग्राहक है वो भी बहुत ज्यादा प्रभावित हुए है लेकिन अब कही न कही कुछ न कुछ राहत जरूर मिलेगी।

कहा जाता है कि पहले खुशियों के दिन थे वो दिन नहीं रहे तो ये दिन भी नहीं रहेंगे यानी दुखों के संकट के दिन भी नहीं रहेंगे। अगर अप्रैल से अगस्त के बीच देखा जाए तो EPFO ने कुल 94.41 लाख क्लेम्स का सेटलमेंट किया था।

इसके द्वारा पीएफ मेंबर्स को 35,445 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। अब वहीं 8.5 फीसदी ब्याज का भुकतान आम आदमी के लिए दीवाली से पहले एक अच्छी खबर साबित हो रही है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More