Pehchan Faridabad
Know Your City

अधिकारी क्या कर रहे हैं काम?, हवा में नहीं हो रहा सुधार

जिले में इस समय लगातार वायु प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। महामारी के साथ – साथ वायु प्रदूषण का स्तर का ग्राफ भी तेज़ी से बढ़ रहा है। सर्दी आते ही प्रदूषण भी आने लगता है। अधिकारी कर क्या रहे हैं किसी को नहीं पता। प्रदूषण की रोकथाम के लिए फरीदाबाद समेत दिल्ली-एनसीआर में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान लागू हुए एक सप्ताह का समय बीत चुका है।

जिले समेत दिल्ली – एनसीआर में ग्रेप को लागू हुए 1 हफ्ता हो गया है परंतु प्रदूषण के स्तर में कोई कमी नहीं हुई है। कल यहां की में हवा में प्रदूषक तत्व पीएम-2.5 का स्तर 302 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर दर्ज किया गया, जोकि देशभर में सबसे प्रदूषित शहरों में तीसरे नंबर पर रहा।

किसी भी जगह की बात करें हम फरीदाबाद में तो कहीं भी प्रदूषण को रोकने के लिए आपको कोई काम नज़र नहीं आएगा अधिकारीयों द्वारा। आखिर अधिकारी कर क्या रहे हैं? आपको बता दें, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ से काल जारी की गई देश के 112 शहरों के वायु गुणवत्ता सूचकांक की सूची में अत्यधिक प्रदूषित शहरों में फरीदाबाद तीसरे नंबर पर रहा।

बल्लभगढ़ ने तो सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। देश का सबसे अधिक प्रदूषण वाला शहर भी वे रहा है। जिले में इस समय हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के तहत कराए जा रहे कई विकास कार्य बजट न होने की वजह से कई महीने से बंद हैं। ऐसे बहुत से विकास कार्य हैं जिनकी वजह से वायु प्रदूषण बढ़ रहा है।

निर्माण कार्यों से भी प्रदूषण का स्तर लगातार ख़राब हो जाता है। हम सभी को इस समय सतर्क रहने की आवश्यकता है। महामारी के दौर प्रदूषण दुश्मन ना बन जाये हमें इस बात का ध्यान रखना होगा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More