Pehchan Faridabad
Know Your City

प्रदूषण बढ़ा सकता है महामारी का प्रकोप, ऐसे करें बचाव

जिले में इस समय हवा जानलेवा बनी हुई है। लगातार प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। महामारी भी अपना केहर बरपा रही है। बढ़ता प्रदूषण महामारी मरीजों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। डॉक्टरों ने इस मौसम में कोविड के साथ गैर-कोविड मरीजों को भी सावधानी बरतने की सलाह दी है। ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के डॉक्टरों ने लोगों को आगाह किया है कि प्रदूषित हवा व्यक्ति के सीधा फेफड़ों पर प्रभाव डालती है।

जानलेवा हवा का सिलसिला अभी से ही नहीं बना हुआ है। जिले में काफी समय से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। इससे महामारी ओर भी विकराल हो सकती है।महामारी के मरीजों की परेशानी बढ़ सकती है, उन्हें ठीक होने से ज्यादा समय लग सकता है। ऐसे में इस दौरान ज्यादा संभलकर रहने की जरूरत है।

घर से कदम जैसे ही बहार निकालो हवा में प्रदूषण का असर साफ़ दिखाई देने लगता है। जिले में लगातार गत सप्ताह से खराब हवा चल रही है फरीदाबाद की हवा बृहस्पतिवार की सुबह भी खराब श्रेणी में रही। बृहस्पतिवार के दिन में पीएम 2.5 का स्तर 362 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर दर्ज किया गया, जबकि बल्लभगढ़ में पिछले तीन दिन के मुकाबले एक्यूआई घटकर 272 पर रहा।

इस समय बच्चों के साथ – साथ सभी के उम्र के लोगों को बहार कम और घर में ज़्यादा रहना चाहिए। प्रदूषण का स्तर बढ़ने से वायरल इन्फ्लूएंजा जैसी सांस की बीमारियां भी बढ़ जाती हैं और खराब वायु गुणवत्ता के कारण फेफड़ों में सूजन आ जाती है और इससे वायरस से संक्रमित होने की आशंका बढ़ जाती है। इस काल में प्रदूषित हवा से और ज्यादा दिक्कत होने की आशंका है।

प्रशासन क्या कर रहा है यह कोई नहीं जानता। लेकिन लगातार होती जा रही ख़राब हवा से लोग जान ज़रूर गवा सकते हैं। प्रदूषित हवा सीधे व्यक्ति के फेफड़ों पर प्रभाव डालती है, जिससे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है। घर से कम बहार निकलिए, मास्क पहन कर रहिये यदि कहीं जा रहे हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More