Pehchan Faridabad
Know Your City

शहर में लगी आग और लगा घंटों लम्बा जाम, दिक्कतों के साथ बढ़ा रहा है प्रदूषण का स्तर

फरीदाबाद में नीलम पुल बंद होने से कई परेशानियां खड़ी हो गयी हैं जिनका जल्द निवारण होना आसान नहीं होगा। नीलम का पुल आग की भयावह लपटों में झुलसने के बाद अब पूरी तरह से सील कर दिया गया है। लोगों की जान को तो हानि नहीं हुई है पर माल लाखों का जल कर ख़ाक हो गया है। पुल के खम्बे आग की चपेट में आने के कारण कमज़ोर हो गए हैं और इन्ही कुछ दिक्कतों की वजह से निगम द्वारा पुल सील कर दिया गया है।

इसी कारण से बाटा के पुल पर जाम लग गया है। जाम तो है ही जिसके कारण अब राष्ट्रीय राजमार्ग से लेकर बड़खल, ओल्ड फरीदाबाद अंडरपास, बाटा और सोहना रेलवे पुलों पर वाहन रेंग-रेंग कर चल रहे हैं। समय की बर्बादी होती है सो अलग साथ ही पेट्रोल और डीज़ल भी अधिक जलता है जिसके कारण फिर एक बार प्रदूषण के स्तर में मुनाफ़ा हो जाता है।

वाहनचालकों के लिए तो दिक्कत की बात है ही पर साथ ही यातायात पुलिस की भी दिक्कतें बढ़ गयी हैं। इन सभी परेशानियों में से एक सबसे गंभीर परेशानी है बढ़ते प्रदूषण की। दीपावली के त्यौहार के बाद ही अक्सर प्रदूषण का स्तर बढ़ता है पर इस साल तो अभी दीपावली दूर है और अभी से ही प्रदूषण का स्तर खतरे के निशाँ पर पहुँच चुका है।

यदि बात करें बीते कुछ दिनों की तो अभी तक इस सीजन का सबसे अधिक प्रदूषित शहर फरीदाबाद ही माना गया है। एनआईटी जोन में 20 अक्टूबर को पीएम 2.5 की मात्रा 226 थी, 21 को 317, 22 को 310 और 23 को यह मात्रा 355 तक पहुँच गयी है। ऐसे ही हाल जहां प्रदूषण मापन मशीनें लगी हैं, वहां का भी है। सभी जगह यह मात्रा कुछ दिनों के मुकाबले बढ़ी हुई है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More