Pehchan Faridabad
Know Your City

विदेशीयों को भारत की ओर आकृष्ट करने के लिए हरियाणा खादी ग्रामोद्योग बोर्ड दुनिया के समक्ष ब्रांड के रूप में उभरेगा

शुक्रवार को हरियाणा खादी व ग्रामोद्योग बोर्ड की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला द्वारा की गई। इस बैठक में मुख्य रूप से हरियाणा के सभी जिला मुख्यालयों पर अगले छह माह में हरियाणा खादी ग्रामोद्योग बोर्ड की दुकानें खोली जाएंगी, जिनमें उत्तम गुणवत्ता के उत्पादों की बिक्री की जाए। इस विषय पर विस्तार से चर्चा की गई।

उक्त विषय पर अधिक जानकारी देते हुए उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि नई दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित लोक निर्माण विश्राम गृह में भी एक बड़ी दुकान खोली जाएगी, ताकि देश की राजधानी में हरियाणा के खादी उत्पादों को विदेशों से आने वाले पर्यटक भी खरीद सकें।

उन्होंने बताया कि यह सभी दुकानें एक ही आकार और डिजाइन में आकर्षक बनाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि जिस तरह कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते भारत की अर्थव्यवस्था डगमगाई है, अब उसे संभालने भी हमारी ही जिम्मेदारी हैं।

अधिकारी ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को करेंगे नए उत्पाद के निर्माण के लिए प्रोत्साहित

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राज्य के ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को खादी के वस्त्र जैकेट, कुर्ता-पाजामा, बैड-शीट, रजाई, अचार, शहद, साबुन, तेल, शैम्पू और मसालों के अलावा अन्य पारम्परिक उत्पादों के साथ बाजरा के बिस्कुट, कुरकुरे और अन्य नए उत्पादों का निर्माण करने के लिए प्रोत्साहित करें।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार की ‘आत्मनिर्भर भारत’ योजना के अंतर्गत उक्त उत्पादों का व्यवसाय करने वाले लोगों को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) के तहत मुद्रा-लोन भी उपलब्ध करवाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का मुख्य उद्देश्य ‘हरियाणा खादी ग्रामोद्योग बोर्ड’ के अंतर्गत बनाए जाने वाले उत्पादों को ज्यादा से ज्यादा प्रसिद्धता हासिल करानी है। उन्होंने कहा कि अपनी भारत की पहचान बनाने के लिए बोर्ड द्वारा सभी उत्पादों पर ‘लोगो’ लगाकर बेचा जाएगा ताकि हरियाणा खादी ग्रामोद्योग बोर्ड एक ब्रांड बनकर उभरे।

इस अवसर पर बैठक में हरियाणा खादी व ग्रामोद्योग बोर्ड की मुख्य प्रशासक श्रीमती रितु, उपमुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी कमलेश भादू के अलावा हरियाणा खादी व ग्रामोद्योग बोर्ड तथा उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के अधिकारी भी उपस्थित थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More