Pehchan Faridabad
Know Your City

महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी का बीड़ा मिलकर उठाएं आम नागरिक : यशपाल यादव

समाज में महिलाओं की सुरक्षा हम सबकी पहली जिम्मेदारी है। जिसके लिए हर व्यक्ति को एक जिम्मेदार नागरिक की भूमिका का निर्वाह करना चाहिए। बादशाह खान सिविल हस्पताल के प्रांगण में महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत बनने वाले सखी वन स्पॉट सेंटर के उद्घाटन के अवसर पर उक्त विचार उपायुक्त यशपाल ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहे।

उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा हमारी पहली प्राथमिकता है। जिसके लिये आमजन को भी सजग नागरिक की भूमिका निभानी होगी तभी हम मिल कर सामुहिक रूप से समाज में महिलाओं को उसका सुरक्षा व सम्मान बनाए रख सकते हैं।

वन स्पॉट सेंटर के बारे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि इस सेंटर के अंतर्गत महिलाओं से संबंधित दुर्व्यवहार के संबंध में कानूनी परामर्श, मनोवैज्ञानिक परामर्श, निशुल्क कानूनी सहायता, चिकित्सा सुविधा, रहने के लिए अस्थाई आवास और खाने की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएंगी।

इसके साथ ही सभी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिला एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर अस्थाई आश्रय, खाने की सुविधा, पुलिस कानूनी सहायता चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने बताया कि इस भवन के निर्माण में 30 लाख रुपये की की लागत आई है।

जिसके अंदर मूलभूत सुविधाओं सहित मेडिकल काउंसलिंग साइको सोशल काउंसलिंग, पुलिस असिस्टेंट, शेल्टर ऑफ 5 डेज जैसी सुविधाएं रखी गई है। उन्होंने बताया कि वुमन एंड चाइल्ड डेवलपमेंट के अंतर्गत वन स्टॉप सेंटर का निर्माण सिविल हॉस्पिटल फरीदाबाद में पुलिस असिस्टेंट, मेडिकल असिस्टेंट, लीगल असिस्टेंट, साइको सोशल काउंसलिंग सेंटर द्वारा महिलाओं से संबंधित दुर्व्यवहार, मारपीट, लड़ाई-झगड़ा, बलात्कार, भावनात्मक उत्पीड़न, दहेज उत्पीड़न, महिला तस्करी, लावारिस महिलाओं और बच्चे अपहरण और महिलाओं व संबंधित अन्य अपराध से पीड़ित महिला एवं बच्चो को सहायता प्रदान की जा सकेगी।

जिन्हे कानूनी, मनोवैज्ञानिक परामर्श, निशुल्क कानूनी सहायता, चिकित्सा सुविधा देने के लिए, अस्थाई आवास तथा खाने की सुविधा के लिए वन स्टॉप सेंटर का निर्माण किया गया है। इस अवसर पर सीएमजीजीए रुपाला सक्सेना, श्रीपाल कराना चेयरमैन सीडब्ल्यूसी, जिला कार्यक्रम अधिकारी अनीता शर्मा, प्रोटेक्शन ऑफिसर हेमा कौशिक सहित संबंधित क्षेत्रों के सीडीपीओ व पुलिस विभाग से संबंधित अधिकारी विशेष तौर पर उपस्थित थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More