Pehchan Faridabad
Know Your City

दीपेंद्र हुड्डा के दो फीट आलू वाले पुराने बयान पर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने ली चुटकी ।

प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि जिनको यह भी नहीं पता कि आलू क्या होता है? संसद में दो-दो फीट का आलू उगाने वाले भला किसानों का दर्द कैसे समझ सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसानों की हजारों एकड़ जमीन हड़पने वाले आज ढिंढोरा पीट रहे हैं कि कृषि संबंधित नए तीन अध्यादेश लागू होने से किसानों को नुकसान होगा जबकि हकीकत यह है कि तात्कालिक कांग्रेस की सरकार ने ही यह ड्राफ्ट तैयार किया था और खुद भूपेंद्र सिंह हुड्डा उस पूरी प्रक्रिया में शामिल थे।

दुष्यंत ने कहा कि किसान का भला तो सिर्फ किसान हितैषी सोच रखने वाले ही कर सकते हैं। वे शनिवार को बरोदा हलके में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन के उम्मीदवार पहलवान योगेश्वर दत्त के समर्थन में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ जनसभाओं को संबोधित कर रहे थे।

कांग्रेस पर तीखा प्रहार करते हुए डिप्टी सीएम ने बरोदा हलके के पिछड़ेपन के लिए पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने बरोदा हलके को चौधरी देवीलाल का गढ़ बताते हुए कहा कि बनवासा क्षेत्र के आधा दर्जन गांवों को कांग्रेस ने अपने शासनकाल में बंजर बना दिया था। दुष्यंत ने कहा कि चौधरी देवीलाल ने इस क्षेत्र में जलभराव की समस्या से निजात दिलाने के लिए ड्रेन पर पंप हाउस बनवाया था लेकिन पूर्व कांग्रेस सरकार ने आते ही उसे बंद कर दिया और किसानों की हजारों एकड़ जमीन बंजर बना दी थी।

उन्होंने कहा कि आज गठबंधन की सरकार ने फिर इस एरिया के किसानों के लिए उसी तरह की व्यवस्था की है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने हमेशा किसानों का शोषण किया है और प्रदेश के किसानों को मुआवजे के नाम पर दो-दो रुपये के चैक देने वाले आज किसान हितैषी होने का ढोंग कर रहे है।

डिप्टी सीएम ने कहा कि कांग्रेस ने इस क्षेत्र को विकास की तरफ नहीं बल्कि बदहाली की तरफ धकेला है। उन्होंने कहा कि हुड्डा ने बरोदा के साथ भेदभाव करते हुए क्षेत्रवाद की राजनीति की। कांग्रेस ने स्टेडियम, फैक्ट्रियां सब रोहतक में बनाई और यहां तक कि किलोई से यहां आने वाली सड़क भी दो लेन से बरोदा में एक लेन हो जाती है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि बरोदावासियों के लिए भूपेंद्र हुड्डा से हिसाब मांगने का यह सही वक्त है और उनसे पूछे कि उनके दस साल के राज में इस क्षेत्र में विकास कार्यें क्यूं नहीं हुए? क्यूं सोनीपत में खेल विश्वविद्यालय नहीं बनाया?

दुष्यंत चौटाला ने हुड्डा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वे कहते है कि हरियाणा में कांग्रेस का स्टेयरिंग उनके पास है लेकिन कांग्रेस हाईकमान ने स्टेयरिंग समेत गाड़ी कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला को देकर उन्हें बिहार भेज दिया है। और तो और अगर हुड्डा की इतनी ही चलती तो कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा के कहने पर यहां से कांग्रेस का रातों-रात उम्मीदवार नहीं बदलता। उन्होंने कहा कि हुड्डा की बची खुची कसर बरोदा उपचुनाव में क्षेत्र की जनता निकालने का काम करेगी।

दुष्यंत चौटाला ने बरोदा हलके के लोगों से अपील की कि जात-पात से ऊपर उठकर बरोदा के विकास के लिए गठबंधन के बेहतरीन प्रत्याशी योगेश्वर दत्त को भारी मतों से जिताकर विधानसभा में भेजें ताकि गठबंधन सरकार योगेश्वर को विकास की ताकत देकर आपके क्षेत्र की तकदीर व तस्वीर बदल सके। उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार अपने एक साल के कार्यकाल में ही बरोदा के लिए इतने विकास कार्य करवा चुकी है कि उतने तो हुड्डा ने अपने 10 साल के कार्यकाल में भी नहीं करवाये।

जेजेपी के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. केसी बांगड़ ने भी बरोदावासियों से गठबंधन के उम्मीदवार पहलवान योगेश्वर दत्त के पक्ष में वोट देने की अपील की। उन्होंने कहा कि जैसे योगेश्वर दत्त ने पहलवानी करते हुए अपने इलाके, प्रदेश व देश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोशन करने का काम किया, उसी तरह विकास के मामले में भी योगेश्वर बरोदा का नाम पूरे प्रदेश में रोशन करेगा। डॉ. बांगड़ ने पार्टी कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि योगेश्वर दत्त की जीत के लिए कोई कोर-कसर न छोड़े और प्रचार के लिए बचे समय में पूरी मेहनत करें।

इस अवसर पर कृषि मंत्री जेपी दलाल, भाजपा सांसद अरविंद शर्मा, सांसद संजय भाटिया, सांसद रमेश कौशिक, राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा, टोहाना से जेजेपी विधायक देवेंद्र बबली, जेजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तेलू राम जोगी, जेजेपी राष्ट्रीय महासचिव बृज शर्मा, जेजेपी जिलाध्यक्ष व पूर्व विधायक पदम सिंह दहिया, भाजपा विधायक एवं जिलाध्यक्ष मोहन लाल बड़ौली, हरियाणा अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम के चेयरमैन एवं जेजेपी नेता पवन खरखौदा, जेजेपी के युवा प्रभारी सुमित राणा, पूर्व विधानसभा उम्मीदवार भूपेन्द्र मलिक, कुलदीप मलिक, सहित बीजेपी-जेजेपी पार्टी के कई पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More