Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा के 54वें जन्मदिन पर जानें, अपने शहर से जुड़ी बातें

यह सभी को पता है कि हरियाणा उत्तर भारत का एक राज्य है जिसकी राजधानी चण्डीगढ़ है। एक नवंबर को हरियाणा दिवस मनाया जाता है। जब हरियाणा को पंजाब से अलग कर दिया गया था, तभी से 1 नवंबर को हरियाणा में हरियाणा दिवस बड़े ही उत्साह और हर्ष से मनाया जाता है। हरियाणा की स्थापना 1 नबम्बर 1966 में हुई थी।

हरियाणा के शहर हरे-भरे जंगलों और भरपूर वनस्पतियों की गोद में बसे हैं। आज हरियाणा 54 वर्ष का हो गया है। इसके पूर्व में उत्तर प्रदेश, पश्चिम में पंजाब, उत्तर में हिमाचल प्रदेश व शिवालिक की पहाड़ियां तथा दक्षिण में राजस्थान एवं अरावली की पहाड़ियां हैं।

पहचान फरीदाबाद आज आपको हरियाणा के ऐसे 10 शहरों के बारे में बताएगा जो देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी प्रसिद्ध हैं। उस से पहले आपको बता दें कि हरियाणा की उपश्रेणी में यह शहर/जिले आते हैं। अम्बाला‎, करनाल‎, कुरुक्षेत्र‎, कैथल‎, गुरुग्राम‎, चरखी दादरी, जींद‎, पानीपत‎, फतेहाबाद, फरीदाबाद, भिवानी महेंद्रगढ़, मेवात, रेवाड़ी, रोहतक‎, सिरसा‎, हिसार‎ हैं।

हरियाणा की सीमायें उत्तर में पंजाब और हिमाचल प्रदेश, दक्षिण एवं पश्चिम में राजस्थान से जुड़ी हुई हैं। यमुना नदी इसके उत्तर प्रदेश राज्य के साथ पूर्वी सीमा को परिभाषित करती है। हरियाणा के शहर हरे-भरे जंगलों और भरपूर वनस्पतियों की गोद में बसा है। कृषि स्थानीय निवासियों का मुख्य व्यवसाय है। राज्य की राजधानी होने के नाते, चंडीगढ़ शहर का एक महत्व है। पंजाबी, हिंदी हरियाणा के शहरों में बोली जाने वाली मुख्य भाषाएँ हैं।

इस पवित्र भूमि में सरस्वती के पावन तट पर जहां वेदों की ऋचाओं का जन्म हुआ वहीं कुरुक्षेत्र में महाभारत के दौरान भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया। हरियाणा के प्रमुख शहरों की सूची वास्तव में बहुत बड़ी है। कुछ मुख्य शहर फरीदाबाद, हिसार, कुरुक्षेत्र, गुड़गांव और अंबाला हैं, जो भारतीय संस्कृति के प्रतीक हैं। चंडीगढ़ हरियाणा और पंजाब की राजधानी है। यह स्वतंत्रता के बाद बनाया गया था और सुरम्य झीलों और शानदार वास्तुकला का दावा करता है। देवी चंडी, रोज गार्डन, रॉक गार्डन, सुखना लेक, ओपन हैंड और कैपिटल कॉम्प्लेक्स के मंदिर चंडीगढ़ के कुछ महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक हैं।

हरियाणा की ऐतिहासिकता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पूर्व वैदिक काल में मेरी ही धरती पर मनु के वंशजों ने सरस्वती के ऊपरी क्षेत्र (अंबाला, कुरुक्षेत्र) पर शासन किया जबकि उत्तर वैदिक काल में कौरवों और पांडवों का प्रसिद्ध महाभारत का युद्ध यहीं पर लड़ा गया। फरीदाबाद हरियाणा का वित्तीय केंद्र है जो दक्षिण और पूर्व में उत्तर प्रदेश, पश्चिम में गुड़गांव और उत्तर में दिल्ली से घिरा है। फरीदाबाद अपने कृषि उत्पादन, विशेषकर मेंहदी उत्पादन के लिए लोकप्रिय है। कई मंदिर और गुरुद्वारे हैं जो शहर में भी स्थित हैं। इस शहर में स्थित कुछ लोकप्रिय धार्मिक स्थल पोथी माला, सिंह सभा और संतो का गुरुद्वारा और घूसैन का मंदिर और हनुमान मंदिर हैं।

मध्यकाल में भारत पर हमला करने वाले विदेशी आक्रांताओं को मुंह तोड़ जवाब भारतीय सूरमाओं ने हरियाणा की धरा पर दिया। पानीपत अपने कपड़ा और कालीन के लिए लोकप्रिय है। यह एक हथकरघा बुनाई उद्योग भी है। पानीपत के प्रमुख आकर्षण सालार कुंज गेट, काला अंब और देवी मंदिर हैं। गुरुग्राम अपने ऑफ-शोर और आउटसोर्सिंग हब के लिए लोकप्रिय है। इस शहर को देश की “मॉल कैपिटल” के रूप में जाना जाता है। रोहतक भारत के हरियाणा राज्य में रोहतक जिले का एक शहर और प्रशासनिक मुख्यालय है। हिसार नई दिल्ली के पश्चिम में 164 किमी दूर स्थित है, और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए एक काउंटर-चुंबक शहर के रूप में पहचाना गया है।

1009 ई. में महमूद गजनवी का थानेसर (कुरुक्षेत्र) पर हमला रहा हो अथवा 1191 में तराइन में मोहम्मद गोरी और पृथ्वी राज चौहान का युद्ध। दोनों आक्रांताओं को यहां हार का ही सामना करना पड़ा। पलवल के बारे में बात करें तो, दिल्ली से पलवल 60 किलोमीटर, गुरुगांव से 50 किलोमीटर (31 मील) और खैर से 55 किलोमीटर (34 मील) दूर है। महाभारत युद्ध के समय पांच पांडव भाइयों द्वारा सोनीपत को स्वर्णप्रस्थ या सुवर्णप्रस्थ के रूप में स्थापित किया गया था। पंचकुला कैक्टस गार्डन और मोर्नी पहाड़ियों के लिए प्रसिद्ध है। अंबाला पंजाब राज्य के साथ सीमा पर स्थित एक शहर है। यह राज्य की राजधानी चंडीगढ़ के बहुत नजदीक है।

हम उम्मीद करते हैं कि पहचान फरीदाबाद द्वारा दी गयी यह जानकारी आपको बेहद पसंद आयी होगी। हरियाणा दिवस का आनंद ली जिए। महामारी का दौर चल रहा है सतर्कता का ध्यान रखिये।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More