Pehchan Faridabad
Know Your City

मथुरा के नंद बाबा मंदिर में मुसलमान युवकों ने धोखे से पढ़ी नमाज, आखिर क्यों हो रही हैं देश में ऐसी साज़िशें?

मंदिर मस्जिद एक समान और गंगा गंगा जमुनी तहजीब की बातें तो बहुत होती हैं पर यह बातें हर धर्म का व्यक्ति असल जिंदगी में मानता नहीं है। ऐसा ही कुछ सामने आया है मथुरा के नंद बाबा मंदिर में। मंदिर में नमाज पढ़ने के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।

दरअसल सोशल मीडिया पर जो फोटो वायरल हो रहा है उसमें दो मुसलमान व्यक्ति मंदिर के प्रांगण में खुले में नमाज पढ़ रहे हैं और खुदाई की खिदमतगार संस्था के लोग उनकी पैरवी कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर हिंदूवादी संगठन इसको धोखाधड़ी और साज़िश का नाम देकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मामले को बारीकी से समझने के लिए पुलिस ने इस पर कार्यवाही शुरू कर दी है।

Mathura: Security personnel deployed at Shri Krishna Janmabhoomi temple on the 26th anniversary of the Babri Masjid demolition in Mathura, Uttar Pradesh on Dec 6, 2018. (Photo: IANS)

बता दें कि हिंदूवादी संगठनों में इस बात को लेकर काफी आक्रोश है। बरसाना थाने में मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी द्वारा दी गई गवाही में मोहम्मद चांद समेत चार युवकों के खिलाफ धारा 153 ए, 295 और 505 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। साथ ही एसएसपी गौरव ग्रोवर ने इस पूरे प्रकरण की जांच खुफिया विभाग को सौंप दी है।

हिंदू संगठनों का कहना है कि अगर मुसलमान युवक किसी भी मंदिर के प्रांगण में आकर खुले में नमाज अदा कर सकते हैं तो मस्जिद में मौलवियों को भी का परिचय देना चाहिए। गंगा-जमुनी तहज़ीब दोनों मजहब के लोगों को निभानी होगी। एकता के नाम पर हिन्दू धर्म और हिन्दुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

हिंदू भाइयों को भी मस्जिद में जाकर गीता और रामायण का पाठ पढ़ने की अनुमति दी जानी चाहिए तभी एकता और सद्भावना का असली सन्देश समाज में जाएगा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More