Pehchan Faridabad
Know Your City

गृह मंत्री ने हरियाणा गठन से लेकर अभी तक घटित धर्मांतरण के मामलों का मांगा ब्यौरा

गृह मंत्री अनिल विज ने हरियाणा गठन से लेकर अभी तक घटित धर्मांतरण के मामलों का मांगा ब्यौरा है धर्मांतर के मामलों मे एक्शन मूड में दिखे हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज, पुलिस विभाग को दिया एक माह का समय ।

फरीदाबाद में इन दिनों बहुचर्चित निकिता गोली कांड के बाद जहां एक तरफ पुलिस विभाग सतर्क हुआ है। वहीं दूसरी तरफ सरकार भी गंभीर होती हुई दिखाई दी है।

दरअसलअब हरियाणा सरकार ने पुलिस विभाग से हरियाणा गठन से लेकर अब तक हुए धर्मांतरण के सभी मामलों की रिपोर्ट एक माह के अंदर मांगी है।

दरअसल, एक मामला खुद 2004 में गृह मंत्री अनिल विज के क्षेत्र में उजागर हुआ था। जिसमें वक्फ बोर्ड के एक अधिकारी द्वारा हिंदू लड़की को अपने प्रेम जाल में फांस लिया था और अंबाला में उस समय यह विषय काफी चर्चित रहा था। ऐसे में अब तक कितने मामले घटित हो गए हैं इस बात की जानकारी का निचोड़ हरियाणा पुलिस जुटाएगी।

इन सभी के पीछे कारण यह है कि सरकार जल्द ही धर्मांतर पर एक कड़ा कानून बनाने पर विचार मंथन कर रही है। धर्मांतर को लेकर यह कानून हाल ही में गठित निकिता हत्याकांड के बाद घर कर रहा है।

इसी कड़ी में अब हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज द्वारा एसआईटी का गठन भी कर दिया गया है। अनिल विज एसआईटी को निकिता गोलीकांड के लिए आगाह कर चुके हैं कि इस बात को बारीकी से देखा जाए कि कहीं यह जबरन धर्मांतरण मामला तो नहीं है।

अनिल विज ने आगे कहा कि धर्मांतरण के मामले में सभी संगठनों और कानूनविदों से भी बातचीत की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि यद्यपि इस मामले में कहीं ऐसा कानून कभी बना है तो उसका भी गहनता से अध्ययन करेंगे।

उन्होंने कहा कि मारपीट में लड़ाई झगड़ा इन मामलों का नितारा नहीं है इसके लिए प्रजातंत्र में कानून बनाकर ही ऐसे मामलों से निपटा जा सकता है।

गौरतलब, फरीदाबाद के बल्लभगढ़ के बाद हरियाणा के रेवाड़ी में भी जबरन धर्म परिवर्तन से जुड़ा मामला सामने आने पर गृहमंत्री अनिल विज ने एक बार फिर कड़ा कानून बनाने के संकेत दिए है। उन्होंने कहा कि कानून बनाने के लिए सहयोगी व विपक्षी दलों से बात करेंगे।

प्यार के जाल में फंसाकर धर्म परिवर्तन की जो कोशिशें हो रही हैं, उन पर रोक लगाना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि अगर अब कानून सख्त नहीं हुई तो यह मामले थमने का नाम नहीं लेंगे। इसलिए जितना हो सकेगा इन पर जल्द कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

हरियाणा सरकार पूरी गंभीरता से कानून बनाने पर विचार कर रही है। रेवाड़ी मामले में एसआईटी जांच कर रही है। हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने कड़ा कानून बनाने का समर्थन किया है।

उन्होंने कहा कि जिस तरीके से पिछले 3-4 साल से देश में जबरन धर्म परिवर्तन के मामले बढ़ते जा रहे हैं, उन पर अंकुश लगाने के लिए अब कानून बनाने की जरूरत है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More