Online se Dil tak

फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम



हरियाणा राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन रेनू भाटिया ने आज फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर, जोनल डीसीपी, एसीपी सहित थाना प्रबंधक के साथ उक्त बैठक का आयोजन हुआ। इस बैठक में पुलिस कमिश्नर विकास कुमार अरोड़ा के साथ मीटिंग में मौजूद तीनों महिला थाना प्रबंधक, साइबर थाना प्रबंधक के अलावा सभी थानों के एसएचओ टेलीकॉन्फ्रेंस के द्वारा जुड़े रहे।

महिला आयोग की चेयरपर्सन रेनू भाटिया ने कहा कि महिला आयोग का कार्य पुलिस विभाग से जुड़ा हुआ है और जो भी केस हम सुलझाते हैं पुलिस विभाग की उसमें पूर्ण रूप से भागीदारी होती है। कई बार लोगो की शिकायत रहती है कि पुलिस विभाग हमारी सुनवाई नहीं करता इसलिए महिला आयोग और पुलिस विभाग ने आज कई अभियान एक साथ मिलकर चलाने पर चर्चा की। पुलिस विभाग और महिला आयोग दोनों ही जनता की बात सुनते हैं।

फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम
फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम

जहां पर न्याय आपको मिलना है वह मिलकर रहेगा और जहां पर कोई बात गलत होती है तो उसकी पूर्ण रूप से निष्पक्ष जांच की जाएगी किस को क्या सजा मिलनी है किस पर का क्या कार्यवाही होनी है वह होकर रहेगी।
उन्होंने पुलिस विभाग को कहा कि विचाराधीन केसों का जल्द से जल्द निपटारा करें। इसके साथ ही उन्होंने समाज में व्याप्त कुरीतियां जैसे साइबर क्राइम, महिला तस्करी, लव जिहाद जैसे गंभीर विषयों पर चर्चा की।

उन्होंने कहा कि सभी एसएचओ का सहयोग क्राइम रोकने के लिए बेहद जरूरी है और इसके लिए महिला आयोग पुलिस विभाग और बाल आयोग मिलकर संयुक्त रुप से कार्य कर सकता है। उन्होंने कहा कि हम लोग मिलकर कई स्कूल और कॉलेजों में महिला विरुद्ध अपराध और साइबर क्राइम से रिलेटेड कार्यक्रम आयोजित करेंगे जिसके द्वारा खासकर लड़कियों को सतर्क किया जा सके।

फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम
फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम

ताकि वह किसी गलत व्यक्ति के चंगुल में ना फसे। हम महिला पुलिस अधिकारियों के लिए भी ट्रेनिंग सेमिनार कराना चाहते हैं जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता उनको यह समझाएं कि हम कानून के मुताबिक किसी महिला की मदद किस प्रकार कर सकते हैं। फरीदाबाद में जितने भी केस विचाराधीन हैं जिनकी अभी तक सुनवाई नहीं हुई है उनके सब पर भी चर्चा की गई।

उन्होंने कहा कि भविष्य में हम नुक्कड़ नाटक और शार्ट फिल्म के माध्यम से जोकि नेशनल कमीशन और स्टेट कमीशन बनाएगा इन सब को हम अलग-अलग प्लेटफार्म के द्वारा स्कूल के बच्चों और महिलाओं को दिखाएंगे जिससे वह सतर्क रहें और महिला तस्करी और साइबर क्राइम पर रोक लग सके। पुलिस कमिश्नर विकास कुमार अरोड़ा के कहाकि महिला सुरक्षा सरकार का प्रमुख एजेंडा है जिसके लिए पुलिस विभाग पूर्ण रूप से कार्यरत है साइबर क्राइम रोकने में पुलिस विभाग व आयोग एक दूसरे की मदद कर सकते है।

फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम
फ़रीदाबाद में महिलाओं को न्याय मिलने में नहीं होगी देरी, महिला आयोग और पुलिस विभाग मिलकर करेगा काम



इस अवसर पर डीसीपी मुख्यालय नितीश अग्रवाल, डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादियान डीसीपी ट्रैफिक सुरेश हुड्डा, एसीपी वूमेन सेफ्टी सेंट्रल जोन महेंद्र वर्मा, एसीपी विमेन सेफ्टी बल्लभगढ़ जोन मुनीश सहगल, एसीपी महिला सेफ्टी एनआईटी जोन दलवीर सिंह, कानूनी विशेषज्ञ बाली महिला थाना प्रबंधक सेंट्रल जोन गीता, महिला थाना प्रबंधक एनआईटी जोन माया ,महिला थाना प्रबंधक बल्लभगढ़ जॉन नेहा राठी, एसएचओ साइबर क्राइम बसंत, क्राइम ब्रांच कैट/ मिसिंग सेल प्रभारी सुरजीत कंप्लेंट ब्रांच प्रभारी इंस्पेक्टर सत्यवीर व अन्य पुलिस अधिकारीगण मौजूद रहे।

Read More

Recent