Online se Dil tak

गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना

औद्योगिक नगरी के लोगों की प्यास बुझाने के लिए गुरुग्राम से पानी लाने की तैयारियां हो रही हैं। पेयजल लाइन इनकी कनेक्टिविटी गुरुग्राम में एनसीआर वाटर चैनल चंदू बूढ़ेड़ा से होगी, जो यहां से करीब 45 किलोमीटर दूर है। पहले चरण में रोज 280 एमएलडी पानी लेने की योजना है और दूसरे चरण में बाकी 280 एमएलडी पानी लाया जाएगा।




पूरी परियोजना 1040 करोड रुपए की है फिलहाल इस योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए फरीदाबाद महानगर विकास प्राधिकरण अधिकारी सिंचाई विभाग गुरुग्राम के अधिकारियों संग स्टडी करेंगे। इसके बाद सर्वे किया जाएगा इस योजना के लिए सिंचाई विभाग को नोडल एजेंसी बनाया गया है।‌

गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना
गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना

इस योजना का लाभ मुख्य रूप से अरावली के आसपास सारे गांव, सेक्टरों, सोसाइटी और एनआईटी के लाखों लोगों को मिलेगा। क्योंकि सबसे अधिक दिक्कत इन्हीं क्षेत्रों में है। बता दे बीते दिनों एफएमडीए की मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में अधिकारियों द्वारा यह योजना प्रस्तुत की गई थी और मुख्यमंत्री ने इस योजना को विस्तृत तैयार करने को कहा था।






एनसीआर वाटर चैनल चंदू बूढ़ेड़ा मैंने हरी पानी को साफ किया जाता है। इसकी क्षमता 1960 एमएलडी पानी की है लेकिन गुरुग्राम में फिलहाल 735 से 980 एमएलडी की पानी लिया जा रहा है। इसलिए यहां के अतिरिक्त पानी को फरीदाबाद लाए जाने की संभावना बन रही हैं और फरीदाबाद के लिए दो चरण में 580 एमएलडी पानी लाया जाएगा। वहीं 2031 के मास्टर प्लान के अनुसार फरीदाबाद की जनसंख्या 38.80 लाख हो जाएगी।


गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना




इसके लिए 1260 एमएलडी पानी की जरूरत होगी और यमुना नदी आगरा और ग्राम शहर में केमिकल युक्त दूषित पानी बहता है। इसका बीओडी लेवल 30 पीपीएम है। इस वजह से यहां नदी और नेहरी पानी को साफ कर पीने योग्य करना बेहद मुश्किल है। वहीं शहर में पेयजल सप्लाई का सबसे बड़ा स्रोत यमुना नदी किनारे लगे हुए रेनीवेल है। यहां से रोज 120 एमएलडी के करीब जल सप्लाई शहर में हो रही है, लेकिन साल दर साल रेल रेनीवेल के नीचे भूजल स्तर खिसक रहा है।

गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना

शासन प्रशासन के समक्ष यह सबसे बड़ी चिंता का विषय बना हुआ है न।‌इसलिए इसके विकल्प की योजनाएं बनाई जा रही है। इस समय शहर वासियों को 450 एलईडी के करीब जल सप्लाई की जरूरत है।। लेकिन 350 एमएलडी पानी ही मिल रहा है। ‌

गुरुग्राम बुझाएगा फरीदाबाद की प्यास, जल्द शुरू होने जा रहा है मास्टर प्लान! 1040 करोड़ रुपए की लागत पर शुरू होगी परियोजना



डॉक्टर गरिमा मित्तल का कहना है कि, शहर को भरपूर जल आपूर्ति मुहैया कराने की दिशा में काम कर रहे हैं। गुरुग्राम में नहरी पानी को साफ करना आसान है। इसलिए यहां से पानी लेने की योजना बनाई गई है इसके लिए भांखरी गांव में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनेंगे, जो रोज 150 एमएलडी पानी साफ कर सकेंगे वहीं योजना पर जल्द स्टडी शुरू हो जाएगी। ‌

Read More

Recent