Online se Dil tak

फरीदाबाद में बनेगा सबसे लंबा 18 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर, मुख्यमंत्री ने योजना को दी हरी झंडी

फरीदाबाद नगरी में दिल्ली दिल्ली वडोदरा मुंबई एक्सप्रेस वे के किनारे सबसे बड़ा ग्रीन कॉरिडोर बनाने की तैयारी की जा रही हैं प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस योजना को हरी झंडी दी है फरीदाबाद महानगर विकास प्राधिकरण इस योजना पर कार्य करेगा इस योजना के अनुसार एक्सप्रेस-वे के किनारे करीब 18 किलोमीटर लंबा ग्रीन कॉरिडोर बनेगा।

यह कॉरिडोर 19 सेक्टर कों छूते हुए निकलेगा, जिसके वजह इस सेक्टर के लोगो फायदा पहुंचेगा , यह ग्रीन कॉरिडोर पूरी तरह से अमृत महोत्सव को समर्पित किया जायेगा, यहां कुछ गतिविधियां अमृत महोत्सव के तहत भी तय करी जायेंगी। ताकि लोगों के अंदर देशभक्ति की भावना और प्रबल हो। ग्रीनबेल्ट की जगह बन गई सर्विस रोड सेक्टर 37 से लेकर 59 तक 26 किलो मीटर तक बाईपास पर एक्सप्रेस वे का निर्माण चल रहा है जिसके वजह से वहा की ग्रीनबेल्ट खत्म हो गई है ।

फरीदाबाद में बनेगा सबसे लंबा 18 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर, मुख्यमंत्री ने योजना को दी हरी झंडी

ये सब अवैध निर्माण बचाने के लिए किया गया। अब समाप्त हुई ग्रीनबेल्ट की भरपाई के लिए कारिडोर बनाए जाने की योजना तैयार की गई है। कारिडोर के बीच-बीच में पार्क विकसित होंगे। साइडों में बेंच लगाई जाएंगी। लोगों के सैर करने के लिए ट्रैक बनेगा। स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत सीसीटीवी कैमरे भी लगेंगे। एक्सप्रेस-वे से गुजरने वाले और शहरवासियों को कारिडोर विकसित होने के बाद सुखद अहसास होगा।

फरीदाबाद में बनेगा सबसे लंबा 18 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर, मुख्यमंत्री ने योजना को दी हरी झंडी



एफएमडीए अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी गरिमा मित्तल ने बताया की बाईपास किनारे सेक्टर में रहने वाले हजारों लोगों को इस कारिडोर का लाभ होगा। पौधारोपण होने से न केवल पर्यावरण संरक्षण को बल मिलेगा बल्कि लोग सीधे रूप से कारिडोर का लाभ भी उठा सकेंगे।

फरीदाबाद में बनेगा सबसे लंबा 18 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर, मुख्यमंत्री ने योजना को दी हरी झंडी
फरीदाबाद में बनेगा सबसे लंबा 18 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर, मुख्यमंत्री ने योजना को दी हरी झंडी

एक्सप्रेस-वे पर दौड़ने वाले वाहनों के धूल-धुंए को कारिडोर के पेड़-पौधे सेक्टर में जाने से रोकेंगे। यहां बच्चों-बुजुर्गों को ध्यान में रखते हुए उनके मनोरंजन व सैर का पूरा ध्यान रखा जाएगा। यह कारिडोर आजादी के अमृत महोत्सव को समर्पित होगा। इसका एस्टीमेट बनाया जा रहा है। एक्सप्रेस-वे को बनाने वाली कंस्ट्रक्शन कंपनी की ओर से पौधारोपण में सहयोग किया जाएगा। इसके अलावा सीएसआर के तहत भी कई जगह से सहयोग लेंगे और इसे विकसित करेंगे

Read More

Recent