HomeFaridabadफरीदाबाद के दमकल विभाग का एक और नया दावा

फरीदाबाद के दमकल विभाग का एक और नया दावा

Published on

फरीदाबाद में बहुमंजिला इमारतों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है। वहीं जिले में बहुमंजिला इमारतों में आग पर काबू पाने के लिए दमकल विभाग के पास पाँच और गाड़ियां शामिल हो गयी हैं। इन गाड़ियों में खास बात यह है कि यह अधिक ऊंचाई पर प्रेशर के साथ पानी फेंक सकती हैं अब 10 मंजिल तक आग पर काबू पाने का दावा किया जा रहा है। इससे पहले वाली गाड़ियों में इतना प्रेशर नहीं था।

बताया जा रहा है की आ दमकल विभाग के पास कुल 13 गाडियाँ हो गई है लेकिन लोगों को हाईड्रोलिक प्लेटफॉर्म का इंतजार है। कनफेडरेशन ऑफ आरडब्लूए ग्रेटर फरीदाबाद के प्रधान निर्मल कुलश्रेष्ठ ने बताया की हाइड्रोलिक मशीन लाने को लेकर के ग्रेटर फरीदाबाद कनफेडरेशन ऑफ आरडब्ल्यूए की ओर से तिगाँव से विधायक राजेश नागर और फरीदाबाद विधानसभा से विधायक नरेंद्र गुप्ता को भी पत्र लिखा था ।

फरीदाबाद के दमकल विभाग का एक और नया दावा

यह मामला बार ग्रीवेंस कमेटी सहित अन्य बैठकों में उठ चुका है। हाइड्रोलिक मशीनों के आने से काफी राहत मिलेगी फिलहाल यहां रहने वाले लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस करते हैं शहर में बन रही बहुमंजिला इमारतों की संख्या को देखते हुए हाइड्रोलिक प्लेटफार्म की आवश्यकता बढ़ती जा रही है इसकी क्षमता 70 मीटर तक पानी पहुंचाने की होती है ।

फरीदाबाद के दमकल विभाग का एक और नया दावा

इसके अलावा गुरुग्राम में हाईड्रॉलिक प्लेटफार्म खरीदा जा चुका है बताया जा रहा है की फरीदाबाद के लिए भी हाईड्रॉलिक प्लेटफार्म आया था मगर वह ज्यादा समय चल नहीं पाया ।

फरीदाबाद के दमकल विभाग का एक और नया दावा

सतिंदर दुग्गल ने बताया कि ग्रेटर फरीदाबाद में बहुमंजिला इमारतें हैं करीब एक दशक से यहां आबादी तेजी से बढ़ी है आपात स्थिति में विभाग की मशीनें इमारतों में मुश्किल से 4 से 5 मंजिल ऊंचाई तक पानी फेंक पाती है।

Latest articles

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...

ग्रेटर फरीदाबाद में कछुये की रफ़्तार से हो रहा है कार्य, कई महीनों से बंद हैं आस-पास के रास्ते

फरीदाबाद में बाईपास रोड पर दिल्ली-मुंबई-वडोदरा-एक्सप्रेसवे के लिंक रोड पर बीपीटीपी एलिवेटेड पुल का...

More like this

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...