Online se Dil tak

अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना, समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ

दिन रात विकसित हो रहे फ़रीदाबाद में भी चल रहे है घोटाले ।तेजी से विकसित हो रहे ग्रेटर फरीदाबाद में छोटी-बड़ी करीब 50 सोसाइटियां हैं। इनमें करीब डेढ़ लाख लोग निवास करते हैं। यहां एक दशक बाद भी लाखों लोग जरूरी सुविधाएं न मिलने से परेशान हैं। इनमें डीपीएस चौक से डिस्कवरी पार्क तक करीब डेढ़ किलोमीटर सड़क में काफी गड्ढे हैं। जर्जर सड़कों पर अंधेरा होने की वजह से वाहन चालकों को परेशानी होती है।

सीवर व्यवस्था दुरुस्त नहीं होने के कारण जगह-जगह पानी भर जाता है। टैंकरों से सोसाइटी का पानी खुले में डाला जाता है जिसकी वजह से भूजल दूषित होता है। केवल यही नहीं सोसाइटी में पूर्ण तरह लोड उठाने वाली बिजली के भी साधन नहीं है। जिसके कारण सोसाइटी में रात दिन बत्ती गुल रहती है। लोगों ने सड़कों पर उतर कर अधिकारियों के खिलाफ कई प्रदर्शन भी किए हैं जिसका कोई फल नहीं मिला।

अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना,
समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ
अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना, समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ

ग्रेटर फरीदाबाद वेलफेयर सोसायटी की तरफ से स्यामवक रमेश गुलिया ने बताया की क्षेत्र की समस्या को लेकर की गई शासन प्रशासन को शिकायत दी जा चुकी है , लेकिन समाधान नहीं हुआ है । भूजल हो रहा प्रदूषित : स्थानीय लोगों ने बताया कि ग्रेटर लै फरीदाबाद में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के छह रेनीवेल भी लगे हैं।

अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना,
समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ
अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना, समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ

जगह-जगह सीवर का पानी जमा होने की वजह से भूजल दूषित हो रहा है। यही दूषित भूजल रेनीवेल के माध्यम से शहर में सप्लाई हो रहा है, जिससे बीमारियां बढ़ने की आशंका हैं।

अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना,
समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ
अब नहीं करना पड़ेगा और मुश्किलों का सामना, समस्याएं सही करने का जिम्मा अब लिया डीटीपी विभाग ने अपने हाथ

इस संबंध में उन्होंने कई बार एफएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सहित अन्य अधिकारियों को शिकायत की हैं। हर बार आश्वासन देकर लौट दिया जाता है।

Read More

Recent