HomeFaridabadमिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

मिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

Published on

हर बार वर्षा के बाद हाइवे से जुड़े अजरौंदा चौक पर होने वाले जलभराव से अब मुक्ति मिल सकती है। एनएचएआइ द्वारा जलभराव वाले स्थानों पर रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम बनाने का काम तेज गति से चल रहा है। अजरौंदा चौक के दोनों ओर (नर्सरी और यातायात पुलिस कार्यालय की दीवार के साथ) राजमार्ग किनारे रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम का निर्माण शुरू हो गया है।

अगले सप्ताह में ये काम पूरा हो जाएगा। वर्षा आने के बाद जैसे ही यहां पानी जमा होगा, वह तुरंत रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम के जरिये जमीन के नीचे पहुंच जाएगा। इससे जलभराव भी नहीं होगा और भूजल स्तर पर भी सकारात्मक असर पड़ेगा ।इनमें जलभराव की वजह से वाहन चालकों की परेशानी को उजागर किया है। पिछले दिनों भी जब वर्षा हुई थी, तब यहां जलभराव हुआ था और इस वजह से शहर जाम हो गया था।

मिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

राष्ट्रीय राजमार्ग छह लेन तो हो गया है, लेकिन इसका फायदा शहरवासियों को नहीं मिल पा रहा है। हर चौराहे पर पुल बन गए हैं। दिल्ली से आगरा आने-जाने वाले तो फर्राटा भरते हुए निकल जाते हैं, लेकिन शहरवासी जाम से जूझते रहते हैं। वर्षा के बाद तो हालात और भी अधिक खराब हो जाते हैं। राजमार्ग पर 10 जगह ऐसी चिन्हित की गई हैं, जहां अधिक जलभराव होता है।

मिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

कई-कई दिन तक वर्षा का पानी जमा रहता है और वाहन चालकों को परेशानी होती है। इनमें दो प्वाइंट अजरौंदा चौक पर भी हैं। एनआइटी की ओर से राजमार्ग पर उतरते समय नर्सरी के सामने और यातायात पुलिस कार्यालय की राजमार्ग वाली दीवार के पास काफी पानी जमा हो जाता है। इससे नीलम पुल पर भी जाम लगता है।

नीलम सिनेमा चौक से लेकर बीके चौक तक इसका असर दिखाई देता है। पुल पार करने में ही 10 से 15 मिनट लग जाते हैं। राजमार्ग पर भी वाहनों की लंबी लाइन लग जाती है। हालांकि राजमार्ग पर जगह-जगह पहले भी रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम लगाए गए थे, लेकिन देखरेख के अभाव में सभी ठप हो गए हैं।

मिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

इस कारण अब वर्षा का पानी जगह-जगह जमा होता है। राजमार्ग पर नाले का निर्माण भी पूरा नहीं हो सका है। पूरी उम्मीद है कि सभी रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम मानसून शुरू होने से पहले बन जाएंगे।

मिलेगी जलभराव से राहत, बनाए जायेंगे रैन वॉटर हार्वेट सिस्टम

कुछ बन गए हैं। इसके बाद जलभराव नहीं होगा। वर्षा के दौरान रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम की निगरानी की जाएगी। इनके मुहाने पर कचरा जमा न हो, यह सुनिशचित किया जाएगा।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...