HomeFaridabadफरीदाबाद के लोगों को मिलेगा हाईवे के जलभराव से निजात, प्रशासन...

फरीदाबाद के लोगों को मिलेगा हाईवे के जलभराव से निजात, प्रशासन ने किया नई तकनीक का प्रयोग

Published on

फरीदाबाद में लोगों के लिए सड़कों पर जलभराव आम बात हो गई है। हर बरसात में ये जलभराव देखने को मिलता है। लेकिन अब इसमे बदलाव आ सकता है। बता दें इस बार हाईवे पर जलभराव नहीं होगा। इसके लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) की ओर से चौराहों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। अजरौंदा चौक पर तीन जगह हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाए जा रहे हैं।

इन्हें बनाने में कन्वेंशनल तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। यह एक बार में करीब ढाई लाख लीटर पानी स्टोरेज कर सकेंगे। इससे जलभराव पर काबू किया जा सकता है।

फरीदाबाद के लोगों को मिलेगा हाईवे के जलभराव से निजात, प्रशासन ने किया नई तकनीक का प्रयोग


राष्ट्रीय राजमार्ग पर बारिश के दौरान जलभराव की भारी समस्या देखने को मिलती है। कुछ देर की बारिश में सड़कें पानी में डूब जाते है। हाईवे पर सबसे ज्यादा खराब हालत, सेक्टर-28, ओल्ड फरीदाबाद, अजरौंदा चौक, बाटा चौक, बल्लभगढ़ बस अड्डा, जेसीबी चौक की बनी है।

थोड़ी बारिश में जलभराव से लोगों को यहां से निकलना भारी पड़ जाता है। चौराहों पर पानी भरा होने से गाड़ियां बीच में खराब हो जाती है। इससे यातायात बहुत ज़्यादा प्रभावित होता है। ऐसे में मजबूरीवश पुलिस कर्मियों को पानी में उतर कर व्यवस्था संभालनी पड़ती है।

फरीदाबाद के लोगों को मिलेगा हाईवे के जलभराव से निजात, प्रशासन ने किया नई तकनीक का प्रयोग


राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की ओर से हाईवे पर जलभराव वाली 10 जगहों को चिन्हित किया गया है। यहां सबसे ज्यादा पानी भरता है। प्रथम चरण में बाटा चौक है जहाँ पर एक तरफ के निर्माणाधीन रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण पूरा कर लिया गया है, बाकी का काम जल्द शुरू किया जाएगा। अजरौंदा चौक दिल्ली की ओर जाने वाली साइड दो हार्वेस्टिंग सिस्टम का काम अभी जारी है।

रेन वाटर हार्वेस्टिंग के निर्माण में तीन तरह की तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। कन्वेंशनल तकनीक, माइक्रो फिल्टर, बॉक्स तकनीक। अजरौंदा चौक पर बनाए जा रहे रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम में कन्वेंशनल टैंक तकनीक का प्रयोग किया जा रहा है।

फरीदाबाद के लोगों को मिलेगा हाईवे के जलभराव से निजात, प्रशासन ने किया नई तकनीक का प्रयोग

इस तकनीक में बोल्डर, ग्रेवाल, चारकोल आदि का इस्तेमाल किया जाता है। इन चार पांच परतों पर पानी छन कर जब जमीन में जाता है तो वह पीने लायक बन जाता है। इसके साथ ही जमीन में पानी की कमी पूरी होती है।

हाईवे के चौक-चौराहों को जलभराव से निजात दिलाने के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का निर्माण शुरू करवा दिया गया है। इस बार लोगों को बरसात में जलभराव से नहीं जूझना होगा और यातायात भी प्रभावित नही होगा इससे साथ ही लोगों का समय भी बचेगा।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...