Online se Dil tak

पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

फरीदाबाद में सिंगल यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल बहुत ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है। यहाँ बड़ी-बड़ी दुकानों से लेकर सड़क किनारे रेडी लगाने वाले लोग सभी इसका प्रयोग करते है। लेकिन आपको बता दें जिस प्रकार से प्लास्टिक से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है इस पर रोक लगाने के लिये फरीदाबाद प्रशासन ने एक बड़ा कदम उठाया है।

आपको बता दें नगर निगम ने सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक लगाने की योजना बना ली है। इसके लिए नगर निगम तैयारियों में जुट गया है। पॉलिथीन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए नए सिरे से वार्ड कमेटियां गठित की जा रही है और साथ ही 45 वार्डों में कमेटियों का गठन किया जा रहा है।

पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना
पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त इंद्रजीत कुलड़िया ने बताया कि पहले निगम क्षेत्र में 40 वार्ड थे। नई वार्डबंदी के बाद अब वार्डों की संख्या 45 हो गई है। उन्होंने बताया कि अब निगम में 24 गांव और शामिल हो गए हैं।

ऐसे में अब सभी वार्डों में नई नगर वार्ड कमेटी गठित की जा रही है। अधिकारी ने बताया कि एक जुलाई से सिंगल यूज पॉलिथीन पर रोक लगाने की तैयारी है।

पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना
पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

इसके लिए अहम कदम उठाए जा रहे हैं। नगर वार्ड कमेटियों की मदद से लोगों को पॉलिथीन के बजाय जूट के बैग प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। जिले में निगरानी और जुर्माना करने वाली कमेटियों का गठन किया गया है। इंद्रजीत ने बताया कि कमेटियों में संयुक्त आयुक्त से लेकर सफाई कर्मचारी तक शामिल हैं।

कमेटियां निगरानी करेंगी कि कोई दुकानदार बैन के बाद प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं कर सके। बैन के बाद प्लास्टिक के इस्तेमाल पर दुकानदार पर 500 से 25 हजार रुपये तक जुर्माना लगाया जाएगा।

पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना
पॉलीथीन इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान, भरना पड़ सकता है भारी जुर्माना

वहीं, सरकार के पॉलिथीन बैन के फैसले से दुकानदार परेशान जरूर है। उन्होंने कहा कि ग्राहक घर से बैग लेकर नहीं आते हैं। कपड़े व जूट के बैग महंगे आते हैं और ग्राहक इसके अलग से पैसे भी नहीं देते।

सिंगल यूज प्लास्टिक के इस तरीके से बैन लगने से दुकानदार और अन्य लोग प्रशासन से निराश ज़रूर होंगे लेकिन पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिए ऐसा कदम उठाना ज़रूरी है।

Read More

Recent