HomeFaridabadफरीदाबाद के गांवों में सरपंच सीट आरक्षित होने से नही मचा राजनीतिक...

फरीदाबाद के गांवों में सरपंच सीट आरक्षित होने से नही मचा राजनीतिक बवाल, शांत बैठे सभी राजनीतिक दल

Published on

सरपंच चुनाव का मतदान 25 नवंबर को होगा वही पंचायत चुनाव की प्रक्रिया आरंभ हुए 2 दिन हो चुके है। लेकिन बात करे सरपंच चुनाव की तो इस बार ज्यादातर बड़े गांवों में सरपंच प्रत्याशी अनुसूचित जाति, पिछड़े वर्ग और महिलाओं के लिए आरक्षित किए गए है। राजनीति में ऐसी कारणों से जंग छिड़ जाता है लेकिन इस चुनाव में माहौल गरमा गर्मी का नही दिख रहा।

सरपंच चुनाव में आरक्षित वर्ग से है ज्यादातर सीटें

फरीदाबाद के गांवों में सरपंच सीट आरक्षित होने से नही मचा राजनीतिक बवाल, शांत बैठे सभी राजनीतिक दल

दरअसल इस राजनीति कुछ अलग अंदाज में हो रही है। जहां से सामान्य वर्ग की महिला के लिए सरपंच पद आरक्षित है, वहां पर प्रभावशाली लोगों ने अपने परिवार की महिलाओं को चुनाव लड़ाने की रणनीति बनाई है। किसी ने बहू तो किसी ने पौत्र वधू को मैदान में उतारने का फैसला लिया है।

लेकिन इस बात से सभी वाकिफ है कि यहां पर केवल महिलाओं का चेहरा होता है, उन्हे कठपुतली बनकर राजनीति दिमाग ही चला रहा होता है। गौरतलब है कि जहां पर अनुसूचित जाति या पिछड़ा वर्ग के लिए सरपंच पद आरक्षित है, वहां पर सामान्य वर्ग के दिग्गजों ने दूरी बनाना सही समझा।

गड़खेड़ा गांव से ही चुनी गई निर्विरोध प्रत्याशी

केवल गड़खेड़ा गांव ऐसा गांव है जहां अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षण है। और वहां ग्रामीणों की सहमति से निर्विरोध महिला सरपंच प्रत्याशी चुनी गई है। लेकिन अन्य गांवों में सामान्य वर्ग के उम्मीदवार अपने राजनीतिक भविष्य को ध्यान में रखते हुए आरक्षित उम्मीदवार और सामान्य उम्मीदवार के सपोर्ट में आने से बच रहे है।

आरक्षण के मुद्दे पर राजनीति करियर बचाते नेता

सपोर्ट न देने का तर्क है कि यदि सामान्य वर्ग को सपोर्ट करेंगे तो आरक्षित वर्ग से वोटो की प्राप्ति नहीं होगी। और आरक्षित वर्ग को सपोर्ट करेंगे सामान्य वर्ग हीन भावना से देखेंगे। और वही किसी भी वर्ग का साथ नही दिया तो कोई भी ये आरोप नही लगा सकता की उन्होंने उन्हें चुनाव हराने का काम किया। इसलिए अपना राजनीति करियर बचाते हुए पीछे रहने में उन्हें भलाई दिख रही है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...