HomeReligionOMG!! देवता को खुश करने के लिए आदिवासी महिला ने पिया 2.5...

OMG!! देवता को खुश करने के लिए आदिवासी महिला ने पिया 2.5 किलो तेल, लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा

Published on

आपने भगवान को खुश करने के लिए कई ऐसी प्रथाएं या परंपराएं देखी होगी, जो आपको हैरान कर देगी। जिसमें कई तरह की पूजा अर्चना होती है। जैसे की अभी हाल फिलहाल में एक फिल्म आई थी (kantara) जो इसको जीता जाता उदाहरण हैं। वहीं दुनिया भर में आदिवासियों की भी ऐसी कई परंपराएं हैं, जिसे देख कर शहरी लोग हिल जायेंगे।

आज हम आपको ऐसी ही एक बहुत विचित्र परंपराएं के बारे में बताने जा रहे हैं। तेलंगाना राज्य के आदिवसियों में ऐसी ही एक परंपरा 1961 से चली आ रही है। तेलंगाना की आदिवासी महिला ने 62 साल पुरानी परंपरा को जिंदा रखा हैं। उस महिला ने स्थानीय उत्सव में सुख-शांति और समृद्धि के लिए ढाई किलो से ज्यादा तिल के तेल को पीया।

देवता को खुश करने के लिया पिया जाता है तेल, जानिए इन से जुड़ी रोचक बातें

OMG!! देवता को खुश करने के लिए आदिवासी महिला ने पिया 2.5 किलो तेल, लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा

1) आदिवासी कबीले की परंपरा के मुताबिक, कबीले की पैतृक बहनों में से एक को तीन साल की अवधि में वार्षिक त्योहारों के दौरान बड़ी मात्रा में घर का बना तिल का तेल पीना पड़ता है।

2) आदिलाबाद जिले के नारनूर मंडल मुख्यालय में आयोजित पांच दिवसीय वार्षिक मेला खामदेव जतारा की 62 साल पुरानी परंपरा का पालन करते हुए एक आदिवासी महिला ने सुख, शांति और समृद्धि के लिए 2.5 किलो तिल का तेल पिया।

3) वार्षिक उत्सव हिंदू कैलेंडर वर्ष के पवित्र महीने पुष्य के महीने में पूर्णिमा के दिन आयोजित किया जाता है।

OMG!! देवता को खुश करने के लिए आदिवासी महिला ने पिया 2.5 किलो तेल, लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा

4) महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के जिविथी तालुक के कोड्डेपुर गाँव के मेसराम नागुबाई, थोडासम कबीले की एक पैतृक बहन, ने बड़ी मात्रा में तिल का तेल पीकर वार्षिक उत्सव की शुरुआत की। बाद में मंदिर समिति के सदस्यों ने उनका अभिनंदन किया।

5) थोडासम कबीले के सदस्य भगवान कामदेव को अपने पारिवारिक देवता के रूप में पूजते हैं।

6) कबीले की परंपरा के मुताबिक, कबीले की पैतृक बहनों में से एक को तीन साल की अवधि में वार्षिक उत्सव के दौरान बड़ी मात्रा में घर का बना तिल का तेल पीना पड़ता है। यह परंपरा अनवरत चलती रहती है।

OMG!! देवता को खुश करने के लिए आदिवासी महिला ने पिया 2.5 किलो तेल, लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा

7) इनके मुताबिक यह परंपरा 1961 में शुरू हुई थी। तब से अब तक कुल 20 सगी बहनों ने इस परंपरा का सफलतापूर्वक पालन किया है।

8) इस बार भी यह परंपरा सफलतापूर्वक पूरी हुई है। अब मेसराम नागुबाई की बारी है, जो अगले दो वर्षों तक तिल का तेल पीकर परंपरा का पालन करेंगी।

Latest articles

फरीदाबाद का ये शहर दिखने वाला है कुछ अलग, किये जायेंगे करोड़ों रुपये खर्च, होगा बदलाव

फरीदाबाद में तमाम जगहों पर जाम की स्थिति देखी जाती है परंतु प्रशासन द्वारा...

बिना किसी को बताए 2 लाख की Royal Enfield Bullet सिर्फ 50 हजार रु में खरीदे, जाने कहा चल रहा है ऑफर

महंगी और स्टाइलिश कार्स के बहुत लोग शौकीन होते। लेकिन आजकल लोगो को बुलेट...

इस वजह से लगातार 7 दिनों तक बिना मुंह धुले शूटिंग करते रहे अमिताभ बच्चन, वजह जान रह जाएंगे दंग

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ऐसे ही बिग बी नहीं कहे जाते उन्होंने सफलता...

अभिषेक बच्चन की इस हरकत ने तोड़ा था ऐश्वर्या राय का दिल, एक्ट्रेस ने पति को 2 दिन घर में नही दी एंट्री, जाने...

अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय इंडस्ट्री के सबसे हैप्पी कपल है। बॉलीवुड में जोड़ियां...

More like this

फरीदाबाद का ये शहर दिखने वाला है कुछ अलग, किये जायेंगे करोड़ों रुपये खर्च, होगा बदलाव

फरीदाबाद में तमाम जगहों पर जाम की स्थिति देखी जाती है परंतु प्रशासन द्वारा...

बिना किसी को बताए 2 लाख की Royal Enfield Bullet सिर्फ 50 हजार रु में खरीदे, जाने कहा चल रहा है ऑफर

महंगी और स्टाइलिश कार्स के बहुत लोग शौकीन होते। लेकिन आजकल लोगो को बुलेट...

इस वजह से लगातार 7 दिनों तक बिना मुंह धुले शूटिंग करते रहे अमिताभ बच्चन, वजह जान रह जाएंगे दंग

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ऐसे ही बिग बी नहीं कहे जाते उन्होंने सफलता...