HomeCelebsJC Bose University में महिलाओं को गाली देकर मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस,...

JC Bose University में महिलाओं को गाली देकर मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, जाने पूरी खबर

Published on

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को है और फरीदाबाद में जगह जगह इस खास दिन के लिए छोटे बड़े कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला सशक्तिकरण की बात की जाती है , महिलाओं के सम्मान और अधिकारों के साथ साथ समानता की बात की जाती है, महिलाओं को आगे बढ़ाने की बात की जाती है। इसी कड़ी की कोशिश में बल्लभगढ़ के JC Bose University में 4 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसका नाम इंटरनेशनल वूमेंस डे फैशन शो विथ सस्टेनेबल ट्विस्ट था।

पावरफुल महिलाओं ने की कार्यक्रम में शिरकत

JC Bose University में महिलाओं को गाली देकर मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, जाने पूरी खबर

इस कार्यक्रम को मिशन जागृति, बीटीआई, इंफोटेनमेंट और आदि द्वारा ऑर्गेनाइज किया गया था। कहने को तो इस कार्यक्रम में बड़ी-बड़ी महीला इनफ्लुएंसेस को बुलाया गया था। लेकिन महिला सशक्तिकरण के नाम पर जेसी बोस यूनिवर्सिटी ने कुछ घटिया ही कर दिया। इस कार्यक्रम की चीफ गेस्ट रेनू भाटिया और सीमा त्रिखा थी दोनों महिलाएं फरीदाबाद के वुमन पावर के नाम से जाने जाते हैं इसी के साथ फरीदाबाद की कई सारी होनहार महिलाएं भी मौजूद थी।

महिलाओं के सामने की महिलाओं की उड़ी धज्जियां

JC Bose University में महिलाओं को गाली देकर मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, जाने पूरी खबर

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मना रहे जेसी बोस यूनिवर्सिटी ने सरेआम महिलाओं की धज्जियां उड़ा दी। महिला दिवस मनाने के आड़ में महिलाओं के बारे में बहुत ही बुरा भला बोला गया जिसे वहां बैठी सारी महिलाएं बड़े ही आनंद से देख रही थी। लेकिन आखिर ऐसा हुआ क्या था? चलिए आपको बताते हैं।

महिलाओं के लिए प्रयोग हुआ गली गलौज

JC Bose University में महिलाओं को गाली देकर मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, जाने पूरी खबर

दरअसल इस कार्यक्रम में जेसी बोस यूनिवर्सिटी की कुछ छात्राएं हरियाणवी डांस की प्रस्तुति दे रही थी। जिसमें उन्होंने ऐसे गाने पर डांस किया जोकि महिलाओं के बारे में काफी बुरे विचार व्यक्त करता है। हम आपको इस गाने की पंक्तियां बताना चाहते हैं। “मेकअप किट तेरी फुकूँगा तेल गेर के रे मटिया, मारूंगा मैं सुश्री के मारूंगा घने घुंघट ओपन तने जो किया।”

 

गाने का अर्थ महिला सशक्तिकरण को कुचलता है

https://fb.watch/j49BxzU3dF/

हम आपको बता दें इन पंक्तियों में महिला के साथ हिंसा करने के बाद की गई और कहीं से भी यह नहीं लगता कि यह महिला सशक्तिकरण की कोई ने कोशिश है बल्कि यह महिलाओं को नीचे दबाने की और उन पर अत्याचार करने का मकसद शायर करती है तो इसी प्रकार मनी जेसी बोस यूनिवर्सिटी में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस जिसमें अभद्र शब्दों के साथ महिलाओं को सम्मानित किया गया।

 

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...