HomeFaridabadस्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मनमानी विकास कार्यों में बन रही बाधा

स्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मनमानी विकास कार्यों में बन रही बाधा

Published on

स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अधिकारियों के ढुलमुल रवैये का असर शहर के विकास कार्यों पर पड़ रहा है। हालत यह है कि तीन साल पहले स्मार्ट सिटी में आठ सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की योजना थी, लेकिन अब तक दो पर ही काम शुरू हो सका है। एक प्लांट राजीव कॉलोनी डिस्पोजल के पास और दूसरा गोल्फ कोर्स के बाहर बनाया जा रहा है। दोनों निर्माणाधीन हैं। स्मार्ट सिटी फरीदाबाद में सीवर ओवरफ्लो की भारी समस्या है। पुरानी लाइनों की क्षमता कम होने से सीवर का गंदा पानी ओवरफ्लो होकर सड़कों पर जमा हो जाता है। सबसे ज्यादा समस्या बल्लभगढ़ की डबुआ कॉलोनी, जवाहर कॉलोनी, संजय कॉलोनी, राजीव कॉलोनी व सुभाष कॉलोनी में बनी हुई है।

 

लोग कर रहे धरना प्रदर्शन लेकिन कोई सुनवाई नहीं

स्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मनमानी विकास कार्यों में बन रही बाधा

समस्या को लेकर अक्सर लोग नगर निगम मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन करते देखे जाते हैं। इसके बावजूद उनके खिलाफ कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसे देखते हुए नगर निगम ने कुछ जगहों पर कम क्षमता के सीवर प्लांट लगाने की योजना बनाई थी, लेकिन राशि के अभाव में काम पूरा नहीं हो सका। बाद में इस प्रोजेक्ट को स्मार्ट सिटी लिमिटेड को ट्रांसफर कर दिया गया। स्मार्ट सिटी लिमिटेड प्लांट लगाने के लिए पैसा दे रही है, जबकि साइट का मालिकाना हक नगर निगम के पास रहेगा।

 

64 करोड़ रुपये खर्च कर लगेंगे एसटीपी

स्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मनमानी विकास कार्यों में बन रही बाधा

तीन साल पहले बनी योजना अभी तक पूरी तरह तैयार नहीं हो पाई है, जबकि इसके लिए काम आवंटित कर दिया गया है। जगह की उपलब्धता के अनुसार एसटीपी लगाए जाएंगे। इस योजना पर 64 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे और शोधित जल का उपयोग बागवानी और उद्योगों में किया जाएगा।

 

शहर में लगे हैं सिर्फ तीन एसटीपी 8 और लगाने की योजना

स्मार्ट सिटी के अधिकारियों की मनमानी विकास कार्यों में बन रही बाधा

शहर के सीवेज के उपचार के लिए तीन बड़े सीवेज उपचार संयंत्र स्थापित किए गए हैं। तीनों प्लांट की क्षमता कम है। इससे शहर में अक्सर सीवर ओवरफ्लो की समस्या बनी रहती है। सबसे ज्यादा समस्या जवाहर कॉलोनी, पर्वतीय कॉलोनी, संजय कॉलोनी, सेक्टर-55, एनआईटी व बल्लभगढ़ इलाके में है। लगभग 259 एमएलडी घरेलू सीवरेज उत्पन्न होता है। इसके लिए बादशाहपुर में 45 एमएलडी, प्रतापगढ़ में 50 एमएलडी व मिर्जापुर गांव में 45 एमएलडी एसटीपी है। इसके जरिए करीब 157 एमएलडी पानी शुद्ध किया जा रहा है। इसे देखते हुए आठ जगहों पर एसटीपी लगाने की योजना है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...