HomeFaridabadगुरुग्राम में ठंडे बस्ते में गई पानी लाने की योजना, सीएम ने...

गुरुग्राम में ठंडे बस्ते में गई पानी लाने की योजना, सीएम ने कहा, जब यमुना पास तो पानी लाने की क्या जरूरत, जानें पूरी खबर।

Published on

गुरुग्राम में चंदू बूढेड़ा से नहरी पानी लाकर एनआईटी के लोगों की प्यास बुझाने की योजना ठंडे बस्ते में चली गई है। गुरुग्राम में सिंचाई विभाग और फरीदाबाद महानगर विकास प्राधिकरण की ओर से 1041 करोड़ रुपए की लागत से करीब 560 एमएलडी पानी स्मार्ट सिटी फरीदाबाद में पहुंचाने की योजना थी। मुख्यमंत्री ने इस प्रोजेक्ट पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब यमुना नदी का पानी पास है तो दूर से लाने की क्या जरूरत है।

गुरुग्राम में ठंडे बस्ते में गई पानी लाने की योजना, सीएम ने कहा, जब यमुना पास तो पानी लाने की क्या जरूरत, जानें पूरी खबर।

सीएम ने अब यमुना के पानी को ट्रीट कर लोगों की प्यास बुझाने की रणनीति तैयार करने को कहा है। इस पर एमडीएनए टीम बनाकर कार्य शुरू कर दिया है। इस योजना से फरीदाबाद के पश्चिमी हिस्से यानी अरावली एनआईटी बड़खल, एसजीएम नगर, संजय कॉलोनी सेक्टर 55 सहित अन्य क्षेत्रों में पेयजल को पहुंचाया जा सकेगा।

यमुना नदी पर रेनीवेल लगाने के अलावा अन्य उपाय भी तलाशे जाएंगे। इसके बाद इनके लिए कंसल्टेंट की सेवाएं ली जाएगी, जिससे पूरी परियोजना की विस्तृत रिपोर्ट बनाकर सरकार को भेजी जा सके।भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार शहर में सबसे ज्यादा पानी पूर्वी हिस्से में है जबकि पश्चिमी हिस्से में पानी का कोई स्रोत नहीं है।

गुरुग्राम में ठंडे बस्ते में गई पानी लाने की योजना, सीएम ने कहा, जब यमुना पास तो पानी लाने की क्या जरूरत, जानें पूरी खबर।

यहां करीब 100 एमएलडी पानी की कमी है। पूर्वी हिस्से में यमुना नदी बहती है। यहां पर 22 रेनीवेल लगे हैं। इसके माध्यम से रोज 220 एमएलडी पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। यहां पूर्ति अंतिम छोर पर एनआईटी और बड़खल पहुंचते-पहुंचते कम हो जाती है। इसके लिए हमेशा पानी की किल्लत बनी रहती है। वहीं शहर के विभिन्न जगहों पर लगे 17 अक्टूबर के माध्यम से भी 110 एमएलडी पानी की आपूर्ति हो पाती है। कुल 330 एमएलडी ही शहर के लोगों को पानी मिल रहा है जबकि डिमांड 450 एमएलडी पानी की है।

एमएसडीए के अभियंता विशाल बंसल का कहना है कि यमुना नदी में पानी का स्रोत खोज कर पेयजल की कमी को दूर करने का प्रस्ताव तैयार करने की योजना है। मुख्यमंत्री ने गुरुग्राम से पानी लाने के प्रोजेक्ट को अभी हरी झंडी नहीं दी है।

गुरुग्राम में ठंडे बस्ते में गई पानी लाने की योजना, सीएम ने कहा, जब यमुना पास तो पानी लाने की क्या जरूरत, जानें पूरी खबर।

वर्ष 2031 तक जिले में करीब 1200 एमएलडी पेयजल की जरूरत पड़ेगी। विभाग के प्रयास के बावजूद मात्र 700 एमएलडी ही पेयजल उपलब्ध हो सकेगा। इसे ध्यान में रखते हुए एफएमडीए अभी से ही तैयारी शुरू कर दी है। केंद्रीय भूजल बोर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार जिले में भूजल की स्थिति काफी नाजुक है। फरीदाबाद,  बल्लभगढ़, फरीदाबाद अर्बन में 200 फीसदी भूजल का दोहन हो रहा है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...