HomeFaridabadलिपिकों की हड़ताल से फरीदाबाद की जनता हुई परेशान, यहां जाने कैसे

लिपिकों की हड़ताल से फरीदाबाद की जनता हुई परेशान, यहां जाने कैसे

Published on

आज के समय में यदि किसी अधिकारी या कर्मचारी को सरकार से अपनी बात मनमानी हो तो उसके लिए इन्होंने एक अनोखा तरीका ढूंढ रखा है। यह तरीका है हड़ताल का, यह लोग अपनी बात मनवाने के लिए हड़ताल तो शुरू कर देते हैं। लेकिन शायद भूल जाते हैं कि इनकी हड़ताल की वजह से आम जनता को कितनी परेशानियों से गुजरना पड़ता है।

लिपिकों की हड़ताल से फरीदाबाद की जनता हुई परेशान, यहां जाने कैसे

दरअसल इन दिनों फरीदाबाद की तहसीलों में लिपिकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल चल रही है। जिस वजह से यहां पर पिछले 21 दिनों से रजिस्ट्री होना, ड्राइविंग लाइसेंस बनना और रिहायशी प्रमाण पत्र बनना पूरी तरह से बंद हो गया हैं। अब ऐसे में जनता अपने काम कराने के लिए इधर-उधर परेशान घूम रही है।

लिपिकों की हड़ताल से फरीदाबाद की जनता हुई परेशान, यहां जाने कैसे

बता दे कि प्रशासन ने लिपिकों की हडताल के बाद रजिस्ट्री शुरू करने की एक योजना बनाई थी, लेकिन वह योजना पूरी तरह से विफल हो गई। क्योंकि प्रशासन ने रजिस्ट्री करने के लिए हरियाणा रोडवेज सहित अन्य पटवारियों को ड्यूटी पर लगाया था। जिस पर तहसीलदार और नायब तहसीलदारों ने तर्क दिया कि दूसरे विभागों के कर्मचारी सही प्रकार से यह काम नहीं कर पाएंगे।

अगर उनसे रजिस्ट्री करते वक्त किसी भी तरह की कोई चूक होती है तो उसका जिम्मेदार कौन होगा। लिपिकों की हड़ताल के बाद से तहसीलों का आलम यह है कि सभी तहसीलदार और नायब तहसीलदार दिनभर खाली बैठे रहते हैं। और जनता परेशान होकर इधर-उधर भटकती रहती है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...