HomeInternationalGarden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड...

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

Published on

बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम :- प्रकृति की ताकत के सामने सब फेल, बगीचे में ऐसा क्या हुआ जिसे सुनकर सहम गए लोग, दरअसल कुदरत ने हम सभी को बनाया है और ज़मीन पर सबसे बुद्धिमान प्राणी इंसान को बनाया है। लेकिन इंसान अपने आप को इतना ताकतवर समझ बैठा है कि अपने सामने वो प्रकृति को भी बौना समझने लगा है।

लेकिन प्रकृति बार-बार ये बता देती है कि इंसान की गलतफहमी के चलते ही ये सब हो रहा है। क्योंकि इंसान, मानव बनकर मानवता का परिचय नहीं बल्कि दानव बनता जा रहा है। लेकिन हमें ये सोचना चाहिए कि प्रकृति ने हर चीज की संरचना सोच-समझ कर की है।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम
Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

इंसान को जहां उसने हर दूसरे जीव से अधिक दिमाग दिया है तो वहीं अन्य जानवरों को अपने दुश्मनों से बचने के लिए छिपने का अनोखा वरदान भी दिया है। उदाहरण के लिए गिरगिट का ज़िक्र किया जाए तो प्रकृति का इससे बड़ा उदाहरण कोई नहीं है।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

क्योंकि गिरगिट माहौल के हिसाब से वातावरण के हिसाब से अपना रंग बदल लेता है ताकि वो खतरे से बच सके। अब इस बात का ज़िक्र हम क्यों कर रहे हैं ये आप इस कहानी को पढ़ने के बाद समझ जाएंगे।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

तो सुनिए दक्षिण अफ्रीका में रहने वाली एक महिला ने जानवरों के छिपने की कला के कारण मौत को बेहद नजदीक से देखा। इसके बाद उसने सोशल मीडिया पर लोगों को आगाह किया कि कैसे चंद सेकण्ड्स के कारण उसकी जान जाते-जाते बची।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम
Photo by Jan Kopřiva on Pexels.com

सूखे पत्तों के बीच साँप

दरअसल अब आपको पूरा मामला बताते हैं। ये घटना दक्षिण अफ्रीका के क्वाजुलू नेटल में बीते महीने एक महिला के साथ हुई। महिला डरबन में रहती है। उसने बताया कि कैसे गार्डन में उसने मौत को बेहद नजदीक से देखा।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

ये महिला लॉकडाउन में अपने घर के बगीचे की सफाई कर रही थी। सूखे घास के बीच वो सूखे पत्तों को जमा करती थी। घटना के दिन उसे वहां काफी पत्ते नजर आए, जिसके बाद वो उन्हें उठाने गई। महिला ने हाथों में ग्लव्स पहन रखे थे।

बगीचे सबसे जहरीला सांप

उसने हाथ से ही पत्तों के ढेर को उठाने की कोशिश की। अचानक वो ढेर हिलने लगा जिसे देख महिला चीख उठी। महिला ने देखा कि पत्तों का वो ढेर असल में अफ्रीका का सबसे जहरीला सांप है। उसने खुद को पत्तों के रंग में यूं बदल लिया था कि एक नजर में कोई इस अंतर को समझ ही नहीं सकता है।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम
Photo by Jan Kopřiva on Pexels.com

सांप देखते ही महिला ने स्नेक हैंडलर निक एवंस को कॉल लगाया। निक तुरंत महिला के बताए पते पर गए और उन्होंने गार्डन में सांप को देखा बहुत गौर से देखने के बाद ही किसी को पत्तों के ढेर में सांप नजर आता। निक ने जब सांप को पकड़ा तब वो बेहद गुस्से में था।

उसने सावधानी से सांप को पकड़ा और प्लास्टिक बॉक्स में भर लिया निक ने बताया कि ये सांप काफी जहरीला था। इसका थोड़ा सा भी जहर इंसान की जान लेने के लिए काफी है। ये सांप छिपने में इतने महारथी होते हैं कि कोई इन्हें एक बार में देख नहीं पाता।

Garden: बगीचे में सूखे पत्तों के ढेर से निकली मौत, 5 सेकंड का खेल और काम तमाम

तो कुल मिलाकर हमें सोच-समझकर ही कदम उठाने चाहिए। कई बार तो जो दिखता है वो होता नहीं है। और जो होता है वो हमें समझ नहीं आता है। इसलिए ही तो कहा जाता है कि कई बार आंखों देखी और कानों सुनी बात भी सच हो जाए ये ज़रूरी नहीं है।

हमें हमेशा अपने विवेक का ख्याल रखना चाहिए। हमारी सावधानी की वजह से ही हम और आप सुरक्षित रह सकते हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...