Pehchan Faridabad
Know Your City

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

कुत्ते को आपने बाहर घूमते हुए देखा होगा कुछ लोग कुत्ते को पालते है। कुत्ते को रखवाली के लिए बहुत से लोग घरों में रखते है तो कुछ लोग आने शौक से पालते है। अब आपको ऐसा मामला बताने जा रहे है जिससे आप सुनकर हैरान हो जाएंगे जी हां भारत का एक ऐसा देश जहां खाए जाते है कुत्ता।

नागालैंड में लोग कुत्ता का मांस खाते हैं। नागालैंड में लोगों की कुत्तों के मांस के प्रति बहुत रुचि है और हर साल यहां कई सारे कुत्ते काटे जाते हैं। नागालैंड भारत का सबसे खतरनाक राज्य माना जाता है। आपको बता दे नागालैंड के जंगलों में कुछ ऐसी प्रजाति के लोग रहते है जो इंसानों का मांस खाते है।

वहीं इसी के साथ नागालैंड के लोगों को कुत्ते का मांस खाना बेहद पसंद है। वहीं असम से कुछ लोग कुत्ते बस्तों में भरकर नगालैंड बेचने के लिए ले जाते हैं।

इस प्रक्रिया में अनेक कुत्ते मारे जाते हैं। बस्तों में भरने के कारण यह दम घुटकर मर जाते हैं। अब खबर बता दे पिछले हफ्ते नागालैंड में कुत्तों के मांस की बिक्री पर रोक लगा दी थी। नागालैंड के मुख्य सचिव घोषणा करते हुए कहा है कि राज्य में कुत्तों के कच्चे और पके दोनों मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है।

तेमजेन ताय ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने कुत्तों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। वहीं इस फैसले का जहां कुछ ओर स्वागत हो रहा है, वहीं, कुछ लोग इसका विरोध कर रहे हैं।

लोग इसे लोकतांत्रिक अधिकारों का उल्लंघन तक बता रहे हैं। बता दे पूर्वोत्तर के ज्यादातर राज्यों में कुत्ते का मीट खाया जाता है। लेकिन सबसे ज्यादा यह नगालैंड में बिकता है।

नगालैंड और असम की सीमा में बसा दीमापुर कुत्ते के मांस का सबसे बड़ा बाजार है। इसे मार्केट से पूरे पूर्वोत्तर में कुत्तों की तस्करी होती है। बताया जाता है कि इस मार्केट में जिंदा कुत्तों को पकड़कर 50 रुपए से 150 रुपए तक में बेचा जाता है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More