HomeIndiaयहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50...

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

Published on

कुत्ते को आपने बाहर घूमते हुए देखा होगा कुछ लोग कुत्ते को पालते है। कुत्ते को रखवाली के लिए बहुत से लोग घरों में रखते है तो कुछ लोग आने शौक से पालते है। अब आपको ऐसा मामला बताने जा रहे है जिससे आप सुनकर हैरान हो जाएंगे जी हां भारत का एक ऐसा देश जहां खाए जाते है कुत्ता।

नागालैंड में लोग कुत्ता का मांस खाते हैं। नागालैंड में लोगों की कुत्तों के मांस के प्रति बहुत रुचि है और हर साल यहां कई सारे कुत्ते काटे जाते हैं। नागालैंड भारत का सबसे खतरनाक राज्य माना जाता है। आपको बता दे नागालैंड के जंगलों में कुछ ऐसी प्रजाति के लोग रहते है जो इंसानों का मांस खाते है।

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

वहीं इसी के साथ नागालैंड के लोगों को कुत्ते का मांस खाना बेहद पसंद है। वहीं असम से कुछ लोग कुत्ते बस्तों में भरकर नगालैंड बेचने के लिए ले जाते हैं।

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

इस प्रक्रिया में अनेक कुत्ते मारे जाते हैं। बस्तों में भरने के कारण यह दम घुटकर मर जाते हैं। अब खबर बता दे पिछले हफ्ते नागालैंड में कुत्तों के मांस की बिक्री पर रोक लगा दी थी। नागालैंड के मुख्य सचिव घोषणा करते हुए कहा है कि राज्य में कुत्तों के कच्चे और पके दोनों मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है।

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

तेमजेन ताय ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने कुत्तों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। वहीं इस फैसले का जहां कुछ ओर स्वागत हो रहा है, वहीं, कुछ लोग इसका विरोध कर रहे हैं।

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

लोग इसे लोकतांत्रिक अधिकारों का उल्लंघन तक बता रहे हैं। बता दे पूर्वोत्तर के ज्यादातर राज्यों में कुत्ते का मीट खाया जाता है। लेकिन सबसे ज्यादा यह नगालैंड में बिकता है।

यहां लोग हर साल खा जाते हैं 30 हजार कुत्ते, खुलेआम 50 रु से 4000 तक में होती है बिक्री

नगालैंड और असम की सीमा में बसा दीमापुर कुत्ते के मांस का सबसे बड़ा बाजार है। इसे मार्केट से पूरे पूर्वोत्तर में कुत्तों की तस्करी होती है। बताया जाता है कि इस मार्केट में जिंदा कुत्तों को पकड़कर 50 रुपए से 150 रुपए तक में बेचा जाता है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...