HomeUncategorizedभारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

भारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

Published on

जलेबी जिसका नाम सुनते ही हर कोई के मुंह में पानी आना तो निश्चित है। जलेबी का नाम सुनते ही मन में हल्‍का नरम और कुरकरा सा स्‍वाद आ जाता है। हमारे देश के हर कोने में लोग बहुत चाव से जलेबियां खाना पसंद करते हैं। लाल-नारंगी, चाशनी में डूबी गर्म-गर्म जलेबियां हर किसी की फेवरेट जरुर होती है, बारिश और जाड़े के मौसम में जलेबी खाने का अपना ही अलग मजा है।

भारतीयों को जलेबी से इस क़दर प्यार है कि कई लोग तो इसे अनाधिकृत रूप से राष्ट्रीय मिठाई तक कहते हैं। अब आप सुनकर हैरान रह जाएंगे कि जिसको आप बड़े चाव से खाते है दरअसल वो भारत का नहीं बल्कि दूसरे देश से विकसित हुआ है।

भारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

ये बहुत कम लोग जानते होंगे की जलेबी दूसरे देश से आया है लेकिन ये सच है तो चलिए इसके बारे में विस्तार से बताते है जलेबी भारत की नहीं बल्कि पर्शिया की देन है।

भारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

अब आप ये सोच रहे होंगे कि आखिर ये विदेशी जलेबी भारत में कैसे पहुंचा। दरअसल हौब्सन-जौब्सन के अनुसार जलेबी शब्द अरेबिक शब्द ‘जलाबिया’ या फारसी शब्द ‘जलिबिया’ से आया है। कहते हैं कि जलेबी 500 साल पहले तुर्की आक्रमणकारियों के साथ भारत पहुंची थी और अब यह मिठाई भारत की पहचान बन चुकी है।

भारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

आपको बता दे बाजारों में जलेबी की तरह ही एक और मिठाई मिलती है, जिसे इमरती कहा जाता है। बनाने की विधि से लेकर स्वाद तक में इमरती बिल्कुल जलेबी की तरह की होती है। बस इसकी बनावट थोड़ा अंतर होता है, जहां जलेबी गोल-गोल होती है वहीं इमरती जालीनुमा होती है।

भारतीय मिठाई नहीं है जलेबी,इस जगह से आई थी भारत में,जानिए

हमारी बचपन की यादों से लेकर, हर शहर के नुक्कड़ तक जलेबी इस तरह बसी हुई है कि सुनकर पहली बार में ये मानने का ही दिल ना करे कि जलेबी सबसे पहले भारत में नहीं बनी, बल्कि किसी और देश से यहां पहुंची।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...