Online se Dil tak

जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न

इंसान वहीं फैशन अपनाता है जो ट्रेंड में चलता है। आज कल अजीबोगरीब फैशन युवा कर रहे है जिसे देख सोच में पड़ जाएंगे। कुछ ऐसा ही अजीबोगरीब फैशन जापान में देखने को मिल रहा है। यहां एक नया फैशन इन दिनों काफी ट्रेंड कर रहा है, जिसे यामी कवई नाम दिया गया है।

बताया जा रहा है कि ये फैशन डिप्रेशन से जुड़ा हुआ है। इस फैशन की बात करें तो जापान में युवतियां बहुत ही अजीबोगरीब मेकअप और कपड़े में नजर आ रही हैं।

जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न
जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न

केवल इतना ही नहीं महिलाएं खून के धब्बों से सने कपड़े पहन रही हैं। इतना ही नहीं इनके कपड़ों पर लिखा होता है कि मैं मरना चाहती हूं। सबका एक ही सवाल है कि आखिर युवतियां इसे खून से सने कपड़ें क्यों पहन रही हैं।

दरअसल यामी कवई दो जापानी शब्दों से मिलकर बना है- इसमें यामी का मतलब होता है बीमार और कवई का मतलब है क्यूट। वैसे तो यामी कवई टर्म 2015 में सबसे पहले सामने आया, लेकिन अब इसकी लोकप्रियता काफी बढ़ रही है।

जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न
credit

फैशन के इस नए ट्रेंड के जरिए डिप्रेशन को बोलने का प्रयास किया जा रहा है। आपको ये भी बता दे कि जापान में खुदकुशी का लंबा इतिहास रहा है। जहां बदनामी का डर हुआ, वहीं अपनी जान लेने का फैसला कर लिया।

जापान में बढ़ रही खुदकुशी के दर को लेकर लगातार पड़ताल की जा रही है। बता दें कि जापान में मरने के इस कदम को जिम्मेदारी उठाने की तरह देखा जा रहा है। वहीं इस देश के इंश्योरेंस नियम खुदकुशी के बाद मरने वाले का कर्ज चुकाते हैं।

जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न
जापान में आजकल लड़कियां पहन रही हैं खून से सने कपड़े, क्या है वजह, जानकर दुनिया हुई सन्न

बता दें कि कोरोना काल में जापान में आत्महत्या की दर में कमी आई है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, फरवरी से जून में आत्महत्या की औसत दर में 13.5 फीसदी की कमी देखने को मिली है। ऐसे में ये माना जा रहा है कि काम के एडिक्शन के कारण लोग डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं।

Read More

Recent