Pehchan Faridabad
Know Your City

एक ऐसा मंदिर जहां फूलों की नहीं चढ़ाई जाती है चप्पलों की माला

सामान्यत लोग जब मंदिर जाते है तो माथा टेकते और अपनी श्रद्धा के अनुसार चढ़ावा भी चढ़ाते है। चढ़ावे में लोग मुख्यत: फूलों की मालाए, प्रसाद, पैसे या सोना-चांदी चढाते हैं। वहीं हम मंदिर जाने से पहले जूते चप्पल को खोलके जाते है।

क्योंकि मान्यता है कि जूते चप्पल पहनकर मंदिर में जाना भगवान का अपमान होता है। लेकिन आज आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे है जिसे जानकर आप हैरान हो जाएंगे। अपने देश में एक ऐसा मंदिर है जहां फूलों की माला नहीं, बल्कि चप्पलों की माला चढ़ाई जाती है।

यह पढकर आप भले ही चौंक गए होंगे लेकिन यह बिल्कुल सच है। कनार्टक के गुलबर्ग जिले में स्थित भव्य लकम्मा देवी मंदिर में भक्त देवी को खुश करने के लिए फूलों की माला में गुथी चप्पल की माला बांधते हैं। हर साल यहां पर फुटवियर फेस्टिवल आयोजित किया जाता है। जिसमें दूर-दूर से लोग चप्पल चढ़ाने आते है।

यह फेस्टिवल हर साल दिवाली के छठे दिन मनाया जाता है। स्थानीय लोगों का मानना है कि उनके के जरिए चढाई गई चप्पल की माला को पहनकर मां रातभर घूमती है। जिससे चप्पल चढाने की सारी इच्छाएं पूर्ण होती है और दु:ख-दर्द दूर हो जाते है। वहीं इस मंदिर के बाहर नीम का एक पेड़ है, मां के भक्त मंदिर के बाहर इस पर चप्पल टांगते है।

लोगों का मानना है कि देवी रात के समय उनकी चढ़ाई चप्पलों को पहन कर घूमती है और बुरी शक्तियों से उनकी रक्षा करती है। इससे पहले देवी को खुश करने के लिए यहां पर बैलों की बलि दी जाती थी। ऐसी मान्यता को सुनकर लोग हैरान रह जाते है लेकिन असल यहां लोगों में इस मंदिर के प्रति बहुत सी भावनाएं है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More