HomeUncategorizedइस गांव में कोई अपनी लड़की देना नहीं चाहता, जानिए क्या है...

इस गांव में कोई अपनी लड़की देना नहीं चाहता, जानिए क्या है वजह

Published on

आजकल हर जगह शहर को स्मार्ट सिटी बनाया जा रहा है। सरकार की तरफ से भी शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की बात हो रही है लेकिन शहर के आसपास रहने वाले कई लोगों की समस्याएं हल होने के बजाय धीरे-धीरे बढ़ रही हैं।

अहमदाबाद शहर के आस-पास छावड़ा गाँव में केमिकल युक्त पानी की समस्या है, लेकिन इस प्रदूषित पानी से अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। प्रदूषित पानी के कारण इस ग्रामीण क्षेत्र में कृषि विफल हो गई है। जी हां शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के चक्कर में छोटे छोटे गांव यूं ही रह जाते है।

इस गांव में कोई अपनी लड़की देना नहीं चाहता, जानिए क्या है वजह

जिसकी वजह से गांव में रह रहे लोगों की समस्या बढ़ती ही जा रही है लोग भी समस्या सह रहे है। जहां शहर के विकास से होने वाले प्रदूषण के कारण गांव के लोगों को काफी कुछ सहन करना पड़ रह है।

आपको बता दे कि इसके अलावा प्रदूषण युक्त पानी के कारण जानवरों को भी दूषित पानी का इस्तेमाल करना पड़ रहा है, जिससे वह बीमारी से परेशान हो रहे है। गांव के लोगों को भी प्रदूषित पानी का इस्तेमाल करने के कारण चमड़ी की कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

दोनों गांवों में प्रदूषण का स्तर इतना ज्यादा है कि केमिकल के चलते कईयों के पैर सड़ जाते है और पैरो में फोड़े हो जाते है। इसके अलावा चमड़ी की अन्य कई समस्या भी सामने आती है। जिसके चलते आसपास के गांव वाले इन गांव में अपनी कन्या नहीं देते।

यही वजह है कि दूसरे जगह के लोग इस गांव में अपनी बेटी की शादी नहीं करते है क्योंकि उन्हें लगता है कि इस गांव में बेटी की शादी करने के बाद परेशानी ही रहेगी।

इस गांव में कोई भी रिश्ता आता है तो गंदगी देख वहां से वापस लौट जाता है। कोई भी इतनी गंदगी देख अपनी बेटी को नहीं देना चाहता।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...