Online se Dil tak

किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है “बाज़ ” प्रताप सिंह


हरियाणा : किसान आंदोलन से आये दिन नई तस्वीरें सामने आ रही है आज आंदोलन को 19 वां दिन है। इस आंदोलन को अपना समर्थन देने के लिए निहंग जत्थे सिंघु बॉर्डर पर पहुंच गया है इस जत्थे में उनके साथ प्रताप सिंह नाम का बाज भी आया है ।

जो हर समय सिंघु बॉर्डर पर लगे ब्रिगेड्स पर बैठा रहता है और निगरानी करता है जब यह बाज इस आंदोलन का हिस्सा बना है तो बॉर्डर पर प्रताप सिंह ( बाज ) के साथ सेल्फी खिंचाने की होड़ लग गई है।

किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह
किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह

जब इस बाज के बारे में सभी को जानने की जिज्ञासा हुई तो इसका जवाब दिया एक निहंग ने ,,,, पंजाब के जिला रोपड़ से जत्थे के साथ पहुंचे एक निहंग ने बताया कि बाज पिछले तीन साल से भी अधिक से निहंग सेना के साथ रह रहा है। जब कृषि कानूनों के विरोध में निहंगों  ने किसानों का साथ देने के लिए दिल्ली की ओर रुख किया तो बाज भी उनके साथ निकल पड़ा और पूरे रास्ते उड़ता हुआ दिल्ली पहुंचा।

किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह
किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह

किसानो की बढ़ती भीड़ को देखते हुए पहले ही सिंघु बॉर्डर पर उनको रोकने के लिए पुख्ता इंतज़ाम कर लिए थे ,, सरकार ने ब्रिगेड्स लगाने के साथ अब एक और दूसरी परत लगाई जा रही है जिससे किसान अंदर न प्रवेश कर सके।

वही यह बाज भी पूरा समय सुबह से शाम तक ब्रिगेदस पर बैठा रहता है दरअसल निहंग ने अपना डेरा ब्रिगेट्स क पास ही बना लिया है इतने सालो से साथ रहने वाला प्रताप सिंह भी इनके साथ ही अपना आशियाना ढूंढ़ते हुए उन्ही ब्रिगेड्स पर बना लिया है ।

किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह
किसान आंदोलन : दुश्मनो पर है बाज़ की नजर ,किसानो की पहरेदारी मे तैनात रहता है "बाज़ " प्रताप सिंह

हालाँकि प्रताप सिंह कई फेमस हो गया है और लोग इसके साथ तस्वीर खिचा रहे यही अगर बात की जाये किसान आंदोलन की तो एक दिन पहले रविवार होने के कारण दिल्ली के बहुत से लोग समर्थन के लिए आ रहे है तो कुछ लोग उनकी सेवा करने के लिए भी पहुंच रहे है और इन किसानो का समर्थन कर रहे है

Read More

Recent