Pehchan Faridabad
Know Your City

पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह के कंधों पर लदा निकिता आरोपियों के वकील की सुरक्षा का जिम्मा

निकिता तोमर हत्याकांड इसे भला कौन भूल सकता है। फरीदाबाद के अग्रवाल कॉलेज में अपने फाइनल ईयर की परीक्षा देकर बाहर निकली छात्रा निकिता तोमर पर गोली चलाने वाले मुख्य आरोपी तौसीफ खान और रेहान के वकील अनीस खान ने अब अपने लिए सुरक्षा की मांग करते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।

जिस पर सिंगल बेंच ने फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह को वकील अनीश खान की शिकायत पर उचित फैसला लेते हुए उनकी जान-माल की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आदेश पारित किया है। वही बता दे, कि निकिता तोमर के मामले में अगली सुनवाई 13 जनवरी को की जानी है।

निकिता हत्याकांड के मुख्य आरोपी तौसीफ और रेहान की ओर से एडवोकेट अनीस खान द्वारा पैरवी की जा रही हैं। दरअसल, निकिता हत्याकांड जितनी तेजी से तूल पकड़ रहा था उतना ही निकिता को न्याय दिलाने के लिए जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किए गए थे।

ऐसे में मुख्य आरोपियों के वकील को लेकर सोशल मीडिया पर पिछले दिनों कुछ शरारती तत्वों द्वारा आपत्ति जनक टिप्पणी करते हुए हैं वकील अनीश खान को जान से मारने की धमकियां भी दी गई थी। जिस पर वकील ने पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह से मुलाकात कर सोशल साइट पर जान से मारने वालों के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी।

उधर वकील अनीश खान का यह आरोप है कि भले ही उनकी तरफ से शिकायत दर्ज कर ली गई है लेकिन पुलिस इस मामले में सुखा रवैया अपना रहा है। जिसके बाद वकील ने पंजाब एवं हाई कोर्ट में अपने और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए अपील दायर की थी।

उधर, जस्टिस अरुण कुमार त्यागी की कोर्ट ने वीडियो कांफेंसिंग के जरिए मामले की सुनवाई करते हुए पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह को अनीस खान की शिकायत पर उचित कार्रवाई करने और उनके व परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आदेश दिया है।

गौरतलब, 26 अक्टूबर को बीए फाइनल ईयर की अंतिम परीक्षा देकर घर लौट रही छात्रा निकिता तोमर को तौसीफ खान और उसके दोस्त रेहान द्वारा अपहरण करने का प्रयास किया गया जिसमें विफल होने पर तौसीफ खान ने निकिता पर गोली चला दी और यह सारा दृश्य सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गया था।

यही नहीं निकिता के परिजनों ने तोसिफ खान पर लव जिहाद का भी आरोप लगाया था, जिसके बाद से ही लव जेहाद को लेकर हरियाणा से लेकर अन्य राज्य भी सख्त रुख अपनाए हुए हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More