HomeTrendingकिसान आंदोलन: हक हुकुम की लड़ाई में महिलाओं की हिस्सेदारी दुगनी जाने...

किसान आंदोलन: हक हुकुम की लड़ाई में महिलाओं की हिस्सेदारी दुगनी जाने क्यों

Published on

किसान 25 दिनों से अपने हक हुकुम की लड़ाई में जान झोंक रहा है. यह आंदोलन आगे और कितने रूप लेगा कहना मुश्किल है लेकिन हाँ एक बात है जो इन दिनों इस आंदोलन में देखने को मिल रही है. यह आंदोलन दूसरे आंदोलन से बहुत अलग है ।

अगर आपके मन में यह सवाल है कि क्यों यह आंदोलन और आंदोलन से अलग है हम आपको बताते है ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है कि किसी किसान आंदोलन में महिलाओ की भूमिका ज्यादा तादात में हो रही हो .और सभी आंदोलनरत महिलाएं अपने इरादों पर मजबूत दिख रही है ।

किसान आंदोलन: हक हुकुम की लड़ाई में महिलाओं की हिस्सेदारी दुगनी जाने क्यों

अगर हम बात करे आने वाली सभी महिलाओं की तो बता दे कि पहले केवल पंजाब की महिलाएं ही आंदोलन में भागीदारी कर रही थी लेकिन अब हरियाणा यूपी दिल्ली और राजस्थान की नारी शक्ति इस आंदोलन का हिस्सा है।

वही यह सभी महिलाएं अपनी पूरी जिम्मेदारी भी निभा रही है ये सभी धरनास्थल पर बैठतीं है खाना बनाने के काम के साथ साथ और अन्य काम भी करती है ।

किसान आंदोलन: हक हुकुम की लड़ाई में महिलाओं की हिस्सेदारी दुगनी जाने क्यों

लगभग 25 दिनों से चल रहे इस आंदोलन में जहां पर कुछ दिन पहले पंजाब की चंद महिलाएं ही आंदोलन का हिस्सा बने हुए थे वहीं अब देश के अन्य राज्यों से भी महिलाएं इस आंदोलन में अपनी हक हुकुम की लड़ाई को लड़ रही हैं हम यही कारण है कि इस आंदोलन को दूसरे आंदोलनों से अलग श्रेणी में रखा गया है ।

किसान नेता खुद यह मानते हैं कि यह पहली बार हुआ है कि किसी आंदोलन में महिलाएं इतनी बड़ी तादाद में हिस्सा ले रही हैं क्योंकि अब तक मात्र पुरुष ही आंदोलनों का हिस्सा होते थे सभी को लग रहा है कि सरकार द्वारा जो कानून बनाए हैं ।

किसान आंदोलन: हक हुकुम की लड़ाई में महिलाओं की हिस्सेदारी दुगनी जाने क्यों

उसके कारण किसान अपनी जमीन को खो देगा तो लोगों के पास परिवार का पालन पोषण करने के लिए कुछ नहीं बचेगा .आज भी देश में बहुत से ऐसे परिवार हैं जो खेती से अपना घर चलाते है ।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...