Pehchan Faridabad
Know Your City

पृथला विधायक ने कांग्रेस पार्टी पर लगाया किसान आंदोलन को षड्यंत्र में तब्दील करने का आरोप

चंडीगढ: लगभग 35 लाख रुपए की लागत से हुए विकास कार्यों का उद्घाटन करने के लिए गांव पियाला पहुंचे पृथला से विधायक एवं हरियाणा वेयरहाउस के चेयरमैन नयनपाल रावत द्वारा एक जन सभा का आयोजन किया। इस दौरान जनता से रूबरू होते हुए रावत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी द्वारा अपने नुमाइंदों को किसान आंदोलन के बीच में भेज कर इस पूरे प्रकरण को राजनीतिक रूप में बदलने का प्रयास किया जा रहा है।

आंदोलन को कांग्रेस पार्टी एक षड्यंत्र में तब्दील करना चाहती हैं। उन्होंने कृषि कानून को किसानों का हित बताते हुए कहा कि यह पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान में है और इसको लेकर एक कमेटी बनने जा रही है जिसमें किसानों को बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि उम्मीद करते हैं जल्दी किसानों को कृषि बिल का सही मायने समझ आएगा और वह खुशी खुशी इस बिल को अपना लेंगे।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज तक अपने भाइयों को सत्ता में रहते हुए एक रुपए का सहयोग नहीं किया तो फिर अंबानी और अडानी की हिमायत करने का सवाल ही नहीं उठता है। रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज तक अपने भाइयों को एक रूपया नहीं दिया तो फिर अंबानी और अडानी की तो बात करना ही बेमानी होगी।

रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को जनता का हित कारी बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल ऐसी शख्सियत हैं कि वह किसी गरीब मजदूर और किसान का अहित कर ही नहीं सकती हैं। वह केवल लोगों का भला करना ही जानते हैं और अपने लिए उन्होंने कभी कुछ नहीं किया 24 घंटे केवल किसान मजदूर के बारे में ही कार्य कर रहे हैं।

वहीं किसानों के बाबत चर्चा करते हुए रावत आगे बोले कि सरकार एमएसपी को बरकरार रखने के लिए पूरी तरह से भरोसा दिला चुकी है, लेकिन परिणाम यह है कि अभी भी कांग्रेसी षड्यंत्र कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अगर किसानों को लगता है कि कृषि कानून बिल में किसी तरह की कोई त्रुटि रह गई है तो उसके लिए भी केंद्र सरकार और हरियाणा सरकार निरंतर किसानों से बात कर रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और हरियाणा सरकार ने किसानों का हित ही सोचा है और जल्दी किसान भी इस बात को समझेंगे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More