HomePublic Issueभू अधिग्रहण में भूस्वामी किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा ना मिलने के...

भू अधिग्रहण में भूस्वामी किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा ना मिलने के आरोप पर जारी हुआ नोटिस

Published on

फरीदाबाद : हरियाणा राज्य के अंतर्गत आने वाले फरीदाबाद जिले में जहां सेक्टर 20a सेक्टर 20 बी के रियायशी और व्यावसायिक विकास के लिए आदेश के मुताबिक बढ़ा हुआ मुआवजा न मिलने की अवमानना याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा फिलहाल फरीदाबाद के भू-अधिग्रहण कलेक्टर बस्ती राम और हरियाणा अर्बन डेवलपमेंट अथारिटी के प्रशासक प्रदीप दहिया को नोटिस जारी कर दिया है। वही ऐसी द्वारा अभी दोनों ही अधिकारियों को कोर्ट में निजी पेशी से छूट भी दे दी गई है।

न्यायमूर्ति एल. नागेश्वर राव, हेमंत गुप्ता और अजय रस्तोगी की पीठ ने भू स्वामी किसानों की ओर से दाखिल अवमानना याचिकाओं पर वकील सोमवीर सिंह देशवाल की बहस सुनने के पश्चात ही जारी किए थे। यह पूरा मामला हरियाणा के फरीदाबाद में 1986, 1992 और 1995 के भू-अधिग्रहण से जुड़ा हुआ है।

भू अधिग्रहण में भूस्वामी किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा ना मिलने के आरोप पर जारी हुआ नोटिस

हालांकि जिन भू स्वामी किसानों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दाखिल करवाई गई थी है, उनकी जमीन का अधिग्रहण 1995 में फरीदाबाद के सेक्टर 20ए और 20बी में रिहायशी और व्यवसायिक परियोजनाओं के लिए किया गया था।

याचिका के मुताबिक भू-अधिग्रहण अधिकारियों पर सुप्रीम कोर्ट के 11 मार्च 2019 के आदेश की जानबूझकर अवहेलना करने का आरोप लगाया गया था। अवमानना याचिका पर चर्चा करते हुए वकील सोमवीर देशवाल ने कहा कि उक्त जमीन अधिग्रहण को 25 साल हो गए हैं

और अभी तक उनके मुवक्किलों को कोर्ट के आदेश के मुताबिक बढ़ा मुआवजा नहीं मिला है। सरकार ने कुछ लोगों को बढ़ा मुआवजा दिया है लेकिन उनके मुवक्किलों को अभी भी मुआवजा नहीं मिल सका है।

भू अधिग्रहण में भूस्वामी किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा ना मिलने के आरोप पर जारी हुआ नोटिस

जानकारी के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उन्होंने कई बार विभाग जाकर बढ़ा मुआवजा दिए जाने की मांग भी रखी थी, लेकिन बदले मे हर बार उन्हें आश्वासन तो मिला लेकिन मुआवजा आज तक नहीं मिला। वहीं वकील ने कहा कि इन भू-स्वामियों के पास आय का कोई दूसरा जरिया नहीं है।

कुछ के बच्चे स्कूल कालेज में पढ़ते हैं जिनकी फीस आदि का खर्चा है और कुछ के बच्चे बड़े हो गए हैं और उनकी शादी आदि करनी है। कोर्ट ने दलीलें सुनने के बाद अवमानना याचिकाओं में प्रतिपक्षी बनाए गए दोनों अधिकारियों को गत सप्ताह नोटिस जारी किया।

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट तक दो दौर की मुकदमेबाजी के बाद 11 मार्च 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने बहुत सी याचिकाओं पर एक साथ फैसला सुनाते हुए हाईकोर्ट के आदेश में संशोधन करते हुए सात अप्रैल 1986 में हुए अधिग्रहण का 435 रुपये वर्ग गज, 5 जून 1992 में हुए अधिग्रहण का 860 रुपये वर्ग गज और 3 जुलाई 1995 में हुए अधिग्रहण का 1210 रुपये प्रति वर्ग गज के हिसाब से मुआवजा देने का आदेश दिया था।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...