HomeLife StyleHealthबच्चों में ना फैले महामारी संक्रमण , इसलिए सरकार करा रही है...

बच्चों में ना फैले महामारी संक्रमण , इसलिए सरकार करा रही है टेस्ट

Published on

फरीदाबाद : अस्पताल में अन्य बीमारी से स्टूडेंट को बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक पहल की जा रही है। जिसके तहत स्वास्थ्य विभाग निजी व सरकारी स्कूलों में जाकर स्टूडेंट का कोविद टेस्ट कर रही है। इस मुहिम में स्कूल के आसपास रहने वाले अन्य बच्चों का भी टेस्ट किया जा रहा है।

सोमवार को बल्लभगढ़ स्थित एसआरएस काॅंवेंट पब्लिक स्कूल में स्वास्थ्य विभाग की ओर से कैंप लगाया गया। जिसमें सैनिक स्कूल के स्टूडेंट्स का भी कोविद टेस्ट किया गया।

बच्चों में ना फैले महामारी संक्रमण , इसलिए सरकार करा रही है टेस्ट

बल्लभगढ़ एसएमओ डाॅक्टर मान सिंह ने बताया कि इस कैंप के जरिए स्टूडेंट्स को पढ़ाई में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं हो रही है। अगर किसी स्टूडेंट्स को अस्पताल में जाकर टेस्ट करवाना पड़ता है तो उनको अन्य बीमारी वाले मरीजों से भी अवगत होना पड़ेगा।


इसी वजह से इस कैंप का आयोजन किया जा रहा है। इस कैंप के जरिए वह ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स का कोविद का टेस्ट कर रहे है। उनको मकसद है कि हर कैंप में 500 से ज्यादा स्टूडेंट्स का टेस्ट करवा सकें।

बच्चों में ना फैले महामारी संक्रमण , इसलिए सरकार करा रही है टेस्ट

एसआरएस काॅवेंट पब्लिक स्कूल के चेयरमैन सुनिल अधाना ने बताया कि शिक्षा विभाग की ओर से गाइडलाइंस जरिए की गई है कि स्टूडेंट्स बिना कोविद की रिपोर्ट के स्कूल परिसर में प्रवेश नहीं करेंगें। इसी वजह से कई स्टूडेंट्स काफी दिनों से कोविद का टेस्ट करवाने के लिए अस्पतालों के चक्कर लगा रहे है। लेकिन उसके बावजूद भी उनका टेस्अ नहीं हुआ। इसी के चलते उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से संर्पक करके कैंप का आयोजन किया।

इस कैंप में सैनिक स्कूल के स्टूडेंट्स का भी कोविद टेस्ट किया जा रहा है। टेस्ट के दौरान सभी प्रकार के सेनिटाइजेशन का प्रयोग किया जा रहा है। स्टूडेंट्स को स्कूल में एंट्री करने से पहले तापमान चैंक किया जा रहा है और उसके बाद हैंड वाॅश भी किए जा रहे है।

बच्चों में ना फैले महामारी संक्रमण , इसलिए सरकार करा रही है टेस्ट

क्लाॅस 12 से कपिल गोयल का कहना है िकवह अस्पताल में कोविद का टेस्ट करवाने के लिए गया था, लेकिन मरीजों की संख्या ज्यादा होने की वजह से उनको टेस्ट नहीं हो पाया। जिसकी वजह से वह कई दिनों से स्कूल भी नहीं आ पा रहे थे। अब स्कूल में टेस्ट होने के बाद वह क्लाॅस को अटेंड कर रहा है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...