Home37 साल तक बिना गुनाह के ही सज़ा काटता रहा शख्स, सच...

37 साल तक बिना गुनाह के ही सज़ा काटता रहा शख्स, सच सामने आते ही पुलिस पर ठोंका मुकदमा

Published on

किसी भी व्यक्ति को जेल के नाम से बहुत डर लगने लगता है। गुनाह करने पर ही सजा मिलती है ऐसा सभी को पता है लेकिन अमेरिका में एक व्यक्ति को हत्या और बलात्कार के झूठे मामले में 37 साल जेल में गुजारने पड़े। शख्स की जिंदगी बलात्कार और हत्या के झूठे मामले में फंसकर तबाह हो गई। उसे 37 साल जेल में गुजारने पड़े।

अगर अपराधी गुनाह करता है, तो उसकी सज़ा भी उसे दी जाती है। लेकिन निर्दोष को सजा मिले यह कोई बात नहीं। इस मामले में डीएनए टेस्ट के आधार पर यह बात सामने आई है कि जिस अपराध की सजा वह सालों से भुगत रहा था, वो उसने किया ही नहीं था।

37 साल तक बिना गुनाह के ही सज़ा काटता रहा शख्स, सच सामने आते ही पुलिस पर ठोंका मुकदमा

सोचिए किसी को अपनी ज़िंदगी के लगभग 40 साल जेल के अंदर गुजारने पड़ जाएं, अब पीड़ित ने जेल से रिहा होने के बाद पुलिस अधिकारियों और फोरेंसिक टीम के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। 56 साल के रॉबर्ट डुबोइस को 1983 में बारबरा ग्राम्स नाम की एक महिला की हत्या और बलात्कार के मामले में उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी।

37 साल तक बिना गुनाह के ही सज़ा काटता रहा शख्स, सच सामने आते ही पुलिस पर ठोंका मुकदमा

बिना किसी गुनाह के इतना लंबे समय तक सजा काटना पीड़ित के लिए श्राप ही हो सकता है। दोषी पाए जाने के बाद उन्हें तीन साल मौत की सजा पाए कैदियों के साथ रखा गया। पिछले साल इस मामले में नए डीएनए सबूतों के आधार पर यह बात सामने आई कि बारबरा ग्राम्स की हत्या रॉबर्ट डुबोइस ने नहीं की थी।

37 साल तक बिना गुनाह के ही सज़ा काटता रहा शख्स, सच सामने आते ही पुलिस पर ठोंका मुकदमा

रिहा होने के बाद शख्स ने पुलिस अधिकारियों और फोरेंसिक डेंटिस्ट के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। रेप और हत्या के झूठे मामले में फंसकर उनकी ज़िंदगी ही तबाह हो गई।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...