Homeरिश्तेदारों ने ही शादी में मचाया हुड़दंग, सिर्फ इस वजह से गुस्सा...

रिश्तेदारों ने ही शादी में मचाया हुड़दंग, सिर्फ इस वजह से गुस्सा हो गए मेहमान

Published on

शादी का दिन हर किसी को हमेशा याद रहता है। यह एक ऐसा दिन होता है जो कभी भुलाया नहीं जा सकता है। शादी को यादगार बनाने के लिए लोग क्या कुछ नहीं करते। लेकिन बागपत में एक शादी समारोह के खाने को रसगुल्ले नहीं मिलने पर मेहमानों और आयोजकों में विवाद लाठी-डंडे तक चल गए, शादी के समारोह में भगदड़ मचने से तीन महिला समेत सात लोग घायल हो गए।

किसी के भी जीवन में शादी से बड़ा शायद ही कोई दिन होगा। इस घटना ने कई सवाल खड़े किये हैं। घटना बागपत के रमाला थाना क्षेत्र के गूंगा खेड़ी गांव की है, पुलिस ने तहरीर दर्ज कर जांच की बात कही बागपत में एक शादी समारोह के खाने को रसगुल्ले नहीं मिलने पर मेहमानों और आयोजकों में विवाद हो गया। नौबत यहां तक आ गई कि दोनों पक्षों में मारपीट और लाठी डंडे तक चल गए।

रिश्तेदारों ने ही शादी में मचाया हुड़दंग, सिर्फ इस वजह से गुस्सा हो गए मेहमान

यह तो हमें लगता ही था कि शादी एक दावत सामान होती है। इस घटना से यकीन भी हो गया कि लोग बस शादी में खाने को आते हैं ख़ुशी को नहीं। शादी के समारोह में भगदड़ मचने से तीन महिला समेत सात लोग घायल हो गए। पुलिस ने घायलों को बड़ौत सीएचसी में भर्ती कराया। घटना बागपत के रमाला थाना क्षेत्र के गूंगा खेड़ी गांव की है। ग्रामीण महावीर के पुत्र सावन की शादी थी।

रिश्तेदारों ने ही शादी में मचाया हुड़दंग, सिर्फ इस वजह से गुस्सा हो गए मेहमान

यादगार हमें हर पल को बनाना चाहिए। ये शादी भी उस जोड़े के लिए हमेशा के लिए यादगार तो बन ही गयी साथ में उन लोगों के लिए भी यादगार बन गयी जो इसमें शामिल हुए थे। यह बारात मुजफ्फरनगर जानी थी। सावन की तरफ से ग्रामीणों को एक रात पहले घर पर ही दावत के लिए बुलाया गया था। दावत चल रही थी। इसी दौरान खाने में रसगुल्ले कम पड़ गए।

रिश्तेदारों ने ही शादी में मचाया हुड़दंग, सिर्फ इस वजह से गुस्सा हो गए मेहमान

इस शादी की बातें कई जगहों पर हो रही हैं। उस इलाके में चर्चा का विषय यह शादी बनी हुई है। रसगुल्ले नहीं मिले तो लाठी – डंडे लोगों को खाने को मिल गए। ऐसे लोगों के कारण खुशियों पर संकट छा जाता है। शादी किसी के भी लिए सबसे ख़ुशी का दिन होता है, उसी शादी में यदि खाने को लेकर विवाद हो जाये तो खुशियां गायब हो जाती हैं।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...