Homeइस गांव में बने हैं ऐसे घर जिन्हे देखने लोग आते हैं...

इस गांव में बने हैं ऐसे घर जिन्हे देखने लोग आते हैं दूर – दूर से, वजह पर यकीन नहीं करेंगे आप

Array

Published on

घर हर किसी के लिए काफी अहम होता है। यह सभी जानते हैं कि घर से बड़ा पवित्र स्थल और कोई नहीं होता। किसी के लिए तो घर सपना ही है। घर को सुंदर बनाने का प्रयास हर कोई करता है। उसमें अच्छी – अच्छी पेंटिंग करता है लेकिन देश में एक ऐसा गांव भी हैं जहां घरों में लोग काला रंग की करवाते हैं। घरों को रंगने के लिए केवल काले रंग का प्रयोग कोई भी नहीं करता है।

आपसे कोई कहे कि आपके इसी रंग से अपना घर रंगना होगा तो यकीनन आपका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच जाएगा। इतना ही नहीं ऑयल पेंट, इमल्शन पेंट या चूना कलर किसी के भी कैटलॉग में काला रंग नहीं होता है। इस रंग का डिमांड बिल्कुल ना के बराबर है।

इस गांव में बने हैं ऐसे घर जिन्हे देखने लोग आते हैं दूर - दूर से, वजह पर यकीन नहीं करेंगे आप

तमाम तरह के रंग हैं जिनसे घर को रंगा जा सकता है। देश के हर कोने – कोने में अजूबे हैं। कई बातों के कारण हैं लेकिन कोई उन्हें कोई जानना नहीं चाहता है। ऐसे छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में आदिवासी बाहुल्य गांव और शहर में काले रंग से रंगे हुए मकान आसानी से नजर आते हैं। आदिवासी समज के लोग आज भी अपने घरों की फर्श और दीवारों को काले रंग से रंगते हैं। इसके पीछे कई मान्यताएं हैं।

इस गांव में बने हैं ऐसे घर जिन्हे देखने लोग आते हैं दूर - दूर से, वजह पर यकीन नहीं करेंगे आप

यहां आप चाहकर भी अपनी इच्छा से घर नहीं रंग सकते। इस गांव में हर घर को काले ही रंग से रंगना पड़ता है। जितनी मान्यताएं उतनी ही कहानियां। इस गांव का हाल भी ऐसा ही है। दिवाली से पहले सभी लोग अपने घरों के रंग-रोगन का काम करवाते हैं। जशपुर जिले के आदिवासी समाज के लोग परंपरा के अनुरूप काले रंग का ही चयन कर घरों को रंग रहे हैं। घरों की दीवारों को काली मिट्टी से रंगते हैं। पैरावट जलाकर काला रंग तैयार करते हैं, कुछ टायर जलाकर काला रंग बनाते हैं।

इस गांव में बने हैं ऐसे घर जिन्हे देखने लोग आते हैं दूर - दूर से, वजह पर यकीन नहीं करेंगे आप

काले रंग का प्रयोग कोई भी नहीं करता है। लेकिन यहां पहले पहले काली मिट्टी आसानी से उपलब्ध हो जाती थी, लेकिन काली मिट्टी नहीं मिलने की स्थिति में ऐसा किया जा रहा है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...