Homeआखिर क्यों संसद भवन में लगे हैं उल्‍टे पंखे, आपको वजह कर...

आखिर क्यों संसद भवन में लगे हैं उल्‍टे पंखे, आपको वजह कर देगी हैरान

Published on

पंखों के बिना हर कोई परेशान हो जाता है। हवा न आने पर पसीने छूटने लगते हैं। पंखों का इस्तेमाल तो हम सभी अपने घर, स्कूल, कॉलेज या दफ्तर में करते हैं। दुनिया भर के अंदर घूमने की कई जगहें हैं और ये लोगों के बीच आकर्षण का विषय भी है। लेकिन हर देश के लिए उसकी संसद भी काफी खास होती है। संसद के अंदर तो आम जनता नहीं जा सकती है लेकिन बाहर से ही सही संसद को देखने लोग जरूर आते हैं। ये देश की एक ऐसी धरोहर है जो अपने आप में खास है।

हम सबके घरों में पखें जरूर लगे होते हैं। पंखे जो हमें गर्मी की मार से बचाते हैं। पंखा हमें गर्मी से बचाता है जिस जगह हम बैठकर अपना काम करते हैं। भारतीय संसद की बात करें तो आपको यहाँ एक ऐसी चीज देखने को मिलेगी जो आपने कहीं नहीं देखि होगी और वो है यहाँ के पंखों का उल्टा होना। लेकिन लोगों को इस बारे में जानकारी नहीं है कि ऐसा क्यों होता है?

आखिर क्यों संसद भवन में लगे हैं उल्‍टे पंखे, आपको वजह कर देगी हैरान

पंखे हमें गर्मी की मार से बचाते हैं। हमें राहत देते हैं। आपसे कोई पूछे कि आपके घर में ये पंखे कैसे लगे हुए हैं, तो आप सोचेंगे कि ये कैसा सवाल हुआ। भारतीय संसद भवन की नींव 21 फरवरी 1921 को ड्यूक ऑफ क्नॉट ने रखी थी। इसका निर्माण 2 मशहूर वास्तुकारों एडिवन लुटियंस और सर हर्बर्ट बेकर ने किया और इसे पूरा बनाने में 6 साल लगे। इसका उद्घाटन तब के गवर्नर जनरल लॉर्ड इर्विन ने 18 जनवरी 1927 को किया था।

आखिर क्यों संसद भवन में लगे हैं उल्‍टे पंखे, आपको वजह कर देगी हैरान

पंखे छत से नीचे की ओर लटकते हुए लगे हुए होते हैं। किसी भी देश का संसद भवन उसके लिए बहुत खास और महत्‍वपूर्ण होता है। भारतीय संसद को काफी अलग ढंग से बनाया गया है और एक खास चीज जो लोगों का ध्यान खींचती है वो यहाँ के उल्टे पंखे हैं। यहां सीलिंग पर लगने वाले पंखे उल्टे लगे हुए हैं। पंखे उल्टे लगे होने के बारे में एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये पंखे शुरू से ही ऐसे ही लगे हुए हैं। ऐसे में अब इन पखों को बदल कर संसद की ऐतिहासिकता को बदलना नहीं चाहते हैं। पंखे आज भी उल्टे ही लगे हुए हैं।

आखिर क्यों संसद भवन में लगे हैं उल्‍टे पंखे, आपको वजह कर देगी हैरान

विश्व में 195 देश हैं और हर देश की राजनीतिक गतिविधियां उसके पार्लियामेंट से ही कंट्रोल की जाती हैं। भारत का संसद भवन बहुत खास है यह ना केवल राजनीतिक महत्‍व रखता है बल्कि ऐतिहासिक रूप से भी बहुत महत्‍वपूर्ण माना जाता है।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...