HomeGovernmentआखिर क्यों बदल रही हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी अपना...

आखिर क्यों बदल रही हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी अपना धर्म, इस्लाम छोड़ अपनाया हिंदू धर्म

Published on

क्या कभी अपने सोचा होगा कि राष्ट्रपति की बेटी अपना धर्म बदलेगी, नहीं ना! लेकिन यह सब सच हैं,आपको बता दे की हाल ही में इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी ने इस्लाम से वापस हिंदू धर्म अपनाने का फैसला किया है साथ ही मंगलवार को पूरे ही विधि विधान से हिंदू धर्म में कन्वर्ट होगी हैं। इसके लिए जालान मेयर मेतरा, सिंगराजा बुलेलेंग बाली में बंग कर्णो की माँ न्योमन राय श्रीमबेन के घर पर सुधी वदानी नाम की रस्म होगी।

साथ ही इसको लेकर बाली में सुकर्णो परिवार के प्रमुख आर्य वेदकर्ण ने शुक्रवार को धर्म परिवर्तन के सुकमावती के निर्णय को बंग कर्णो के परिवार मेगावती सोकर्णोपुत्री, गुंटूर सोकर्णोपुत्र और गुरुह सोकर्णोपुत्र का आशीर्वाद भी बताया है। और साथ ही सुकमावती के तीनों बच्चों ने भी इसकी अनुमति दी है।

आखिर क्यों बदल रही हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी अपना धर्म, इस्लाम छोड़ अपनाया हिंदू धर्म

उहोंने 70 साल की उम्र में सुकमावती ने हिंदू धर्म अपनाने का फैसला किया है, क्योंकि वह अपने धर्म में वापस आना चाहती थीं और वेदकर्ण ने कहा, “सिंगराजा की दादी न्योमन राय सिरिम्बेन भी एक हिंदू हैं। इसलिए वह भी जकार्ता में नहीं बल्कि बाली में अपनी जगह चाहती हैं।

आखिर क्यों बदल रही हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी अपना धर्म, इस्लाम छोड़ अपनाया हिंदू धर्म

साथ ही सुकर्णो सेंटर बाली के प्रमुख ने कहा कि समिति ने बंग कर्णो के पूरे परिवार, राष्ट्रपति जोकोवी और इंडोनेशिया के सभी कैबिनेट के सभी मंत्रियों को भी निमंत्रण दिया है।साथ ही उनका कहना हैं की “अभी तक सभी तैयारियाँ अच्छी रही हैं।”

आखिर क्यों बदल रही हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी अपना धर्म, इस्लाम छोड़ अपनाया हिंदू धर्म

https://twitter.com/harshmadhusudan/status/1451558013571985415?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1451558013571985415%7Ctwgr%5E%7Ctwcon%5Es1_c10&ref_url=https%3A%2F%2Fhindi.opindia.com%2Freports%2Finternational%2Findonesia-first-president-daughter-sukmawati-soekarnoputri-islam-to-hindu-conversion%2F

आर्य वेदकर्ण का कहना हैं कि सुकमावती का हिंदू धर्म में जाना अपने पैतृक धर्म में लौटने का उनका अधिकार है और उनका अधिकार उनसे कोई नहीं ले सकता। उनके मुताबिक सुकमावती की दादी, इदा आयु न्योमन राय श्रीम्बेन, सिंगराजा, बुलेलेंग रीजेंसी, बाली से हैं और सभी हिंदू हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...