Homeबारिश में लगाया छाता तो देना पड़ेगा जुर्माना, जानिए क्या कहते हैं...

बारिश में लगाया छाता तो देना पड़ेगा जुर्माना, जानिए क्या कहते हैं नए नियम

Published on

केरल में बारिश का मौसम होने के कारण दोपहिया सवारों द्वारा छाते का इस्तेमाल करने के मामले बढ़ गए हैं। मिश्नर ने केरल के सभी क्षेत्रीय और संयुक्त-क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों को एक पत्र जारी किया है। इस पत्र में कमिश्नर ने दोपहिया वाहन चलाते समय छाता रखने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा है। परिवहन विभाग का कहना है कि यह सुरक्षा के लिए खतरा है और विभाग ने दोपहिया वाहन चलाते समय छाते का उपयोग करने के खिलाफ चेतावनी जारी की है।

तेज रफ्तार हवाओं और अन्य डिस्ट्रैक्शन के कारण दुर्घटनाएं होती हैं। दूसरों की सुरक्षा के लिए यह कदम उठाया गया है। छाते बाइक या स्कूटर चलाते हुए व्याकुलता पैदा कर सकते हैं।

बारिश में मोटरसाइकिल पर इस्तेमाल किया छाता तो लगेगा भारी जुर्माना, जानें क्या हैं नए नियम

अब लोग सोच रहे हैं कि बारिश के पानी से बचाव कैसे होगा। नॉन-एयरोडायनामिक डिजाइन के कारण दोपहिया वाहन पर बैठना और उसे संभालना और भी ज्यादा खतरनाक होता है। तेज गति वाली हवाओं के खिलाफ, छाता पैराशूट के समान सिद्धांत पर काम कर सकता है और इसे पकड़े हुए व्यक्ति को अत्यधिक बल से खींच सकता है।

बारिश में लगाया छाता तो देना पड़ेगा जुर्माना, जानिए क्या कहते हैं नए नियम

बरसात के मौसम के साथ ही राज्य में तेज रफ्तार हवाएं भी आम हो गई हैं। खुली छतरी और तेज हवा के साथ इसके परिणाम काफी खतरनाक हो सकते हैं। यदि मोटरसाइकिल हवा के विपरीत चल रही है, जो मोटरसाइकिल पर सवार व्यक्ति द्वारा महसूस की जाने वाली हवा की गति बहुत ज्यादा हो जाती है। अगर कोई बाइक हवा की दिशा के विपरीत लगभग 50 किमी/घंटा की रफ्तार से चल रही है और हवा की रफ्तार 30 किमी/घंटा भी है, तो मोटरसाइकिल पर बैठे व्यक्ति को हवा की गति 50 और 30 का कुल योग यानी 80 किमी/घंटा तक महसूस होती है।

बारिश में मोटरसाइकिल पर इस्तेमाल किया छाता तो लगेगा भारी जुर्माना, जानें क्या हैं नए नियम

ऐसे में अगर कोई व्यक्ति हाथ में छाता लेकर बाइक पर बैठता है तो उसे 80 किमी/घंटा की रफ्तार से चलने वाली हवा आसानी से खींच सकती है और वह दो-पहिया वाहन से असंतुलित होकर नीचे गिर सकता है और यह दुर्घटना उसके लिए काफी गंभीर हो सकती है।

Latest articles

भारत में अब ड्रोन टेक्नोलॉजी से होगा एग्रीकल्चर, 50 प्रतिशत तक नुकसान होगा कम

प्रमुख ड्रोन डिलीवरी लॉजिस्टिक्स प्रदाता ने एक नई स्टडी रिपोर्ट लॉन्च करते हुए कहा...

Faridabad के स्कूलों के ड्रेसकोड में हुआ बदलाव, अब से ये पहनकर स्कूल जाएंगे छात्र

शहर में बढ़ते हुए डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के प्रकोप को देखते हुए शिक्षा...

Faridabad की ये बेटी चीन में लहराएगी देश का परचम, यहां जानें कौन है वो बहादुर बेटी

हमारे देश के बेटे और बेटियों की बात ही कुछ ओर हैं, वह देश...

Faridabad की इस विधानसभा की 20 सड़कें होगी दुरूस्त, जनता को मिलेगी सहूलियत

शहर के जो लोग तिगांव क्षेत्र की टूटी हुई सड़कों से तंग हैं, ये...

More like this

भारत में अब ड्रोन टेक्नोलॉजी से होगा एग्रीकल्चर, 50 प्रतिशत तक नुकसान होगा कम

प्रमुख ड्रोन डिलीवरी लॉजिस्टिक्स प्रदाता ने एक नई स्टडी रिपोर्ट लॉन्च करते हुए कहा...

Faridabad के स्कूलों के ड्रेसकोड में हुआ बदलाव, अब से ये पहनकर स्कूल जाएंगे छात्र

शहर में बढ़ते हुए डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के प्रकोप को देखते हुए शिक्षा...

Faridabad की ये बेटी चीन में लहराएगी देश का परचम, यहां जानें कौन है वो बहादुर बेटी

हमारे देश के बेटे और बेटियों की बात ही कुछ ओर हैं, वह देश...