Homeआतंकवादी बनकर किया आतंकियों का सफाया, जानें हरियाणा के फौजी बेटे ने...

आतंकवादी बनकर किया आतंकियों का सफाया, जानें हरियाणा के फौजी बेटे ने कैसे किया ये कारनामा

Published on

भारतीय सेना की स्पेशल फोर्स के कमांडो मेजर मोहित शर्मा की वीरता के किस्से आपने भी सुने होंगे। मेजर मोहित शर्मा, जब आप इस नाम और इसकी कहानी को पढ़ेंगे तो आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। आपमें से जो लोग सोचते हैं कि हर सैनिक की ड्यूटी होती है कि वो अपने देश पर कुर्बान हो, तो यह नाम उनकी सोच को बदलने के लिए काफी होगा।

शोक चक्र विजेता, स्पेशल फोर्स के शहीद मेजर मोहित शर्मा ने देश के लिए अपनी जान दी है। मेजर मोहित शर्मा ने न सिर्फ अपनी ड्यूटी को निभाया बल्कि आखिरी दम तक अपनी रेजीमेंट का गौरव बनाए रखा। अब मेजर मोहित की बहादुरी को पर्दे पर उतारा जा रहा है।

आतंकवादी बनकर किया आतंकियों का सफाया, जानें हरियाणा के फौजी बेटे ने कैसे किया ये कारनामा

मेजर मोहित ने कश्मीर में तैनाती के दौरान आतंकवाद के खात्मे में सराहनीय कार्य किया है। मेजर मोहित की कहानी सुनकर यकीन नहीं होता है। मेजर मोहित शर्मा 21 मार्च 2009 को नॉर्थ कश्‍मीर के कुपवाड़ा में शहीद हो गए थे। मेजर मोहित ब्रावो असॉल्‍ट टीम को लीड कर रहे थे और वह 1 पैरा स्‍पेशल फोर्स के कमांडो थे।

आतंकवादी बनकर किया आतंकियों का सफाया, जानें हरियाणा के फौजी बेटे ने कैसे किया ये कारनामा

हरियाणा के बेटे मोहित शर्मा ने अपनी बहादुरी से ना केवल दुश्मनों के छक्के छुड़ाए थे, बल्कि हिजबुल आतंकियों के घर में घुसकर उन्हें तहस नहस कर दिया था। मेजर मोहित ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों को मौत के घाट उतारा था। कुपवाड़ा के घने हफरुदा के जंगलों में मुठभेड़ हुई और मेजर मोहित ने बहादुरी से मोर्चा संभाला। मेजर मोहित आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए। शहीद होने से पहले उन्‍होंने 4 आतंकियों को ढेर किया और अपने दो साथियों की जान बचाई।

आतंकवादी बनकर किया आतंकियों का सफाया, जानें हरियाणा के फौजी बेटे ने कैसे किया ये कारनामा

मेजर मोहित को उनकी बहादुरी के लिए शांति काल में दिए जाने वाले सर्वोच्‍च सम्‍मान अशोक चक्र से सम्‍मानित किया गया था। यह सम्‍मान मरणोपरांत उन्‍हें दिया गया था। इसके अलावा उन्‍हें सेना मेडल से भी नवाजा गया था।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...