HomeGovernmentछठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी...

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

Published on

यमुना नदी में अमोनिया की मात्रा कम होने से दिल्ली में पेयजल समस्या खत्म हो गई है लेकिन छत पर से पहले हर तरफ फैले जहरीले झाग सेवर तीनों पर संकट गहरा गया है धार्मिक आस्था के कारण झाग से यदि नदी में उतरना व्यक्तियों की मजबूरी है सोमवार को आईटीओ से कालिंदी कुंज के बीच घाटों पर वृति नदी में स्नान कर बाहर निकले तो उनके शरीर पर झाग की चादर थी।

उधर दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा यमुना नदी को गंदा कर रहे हैं उन्होंने दोनों राज्यों में से यमुना में जहरीले रसायन डालने से रोकने के लिए कार्य प्रणाली में सुधार करने का आग्रह किया है।

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

नहाए खाए के साथ छठ पर्व की शुरुआत के सिलसिले में पूर्वांचल यमुना नदी स्थित वजीराबाद यमुना बाजार आईटीओ कलंदी कुंज आदि घाटों पर आस्था की डुबकी लगाने पहुंचे लेकिन अधिकतर घाटों पर झाग पसरी थी।

इसके बावजूद वह नदी में उतरे और पूजा की। जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने कहा कि दिल्ली जल बोर्ड अनुपचारित गंदा पानी को जमुना नदी में जाने से रोकने के लिए एसटीपी की क्षमता बढ़ाने पर लगातार काम करा रहा है

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

यही कारण है कि उत्तर प्रदेश की सिंचाई विभाग की लापरवाही के कारण यमुना नदी में झाग बन रहे हैं ओखला बैराज उत्तर प्रदेश सरकार के सिंचाई विभाग के अधीन आता है उसके ढुलमुल रवैया के कारण जलकुंभी उग आती है और इनके सड़ने पर पोस्टपेड जैसे सर्फेक्टेंट छोड़ते हैं।

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

जब यह पानी कालिंदी कुंज में ऊंचाई से गिरता है तो झाग बनते हैं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली और सहारनपुर में संचालित कागज और चीनी उद्योग भी सर्फेक्टेंट युक्त गंदे पानी को ओखला बैराज में हिंडन नहर के माध्यम से छोड़ते हैं।

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

शांति व सद्भाव के महापर्व छठ पर दिल्ली की सियासत गरमा गई है। यमुना घाट पर छठ पूजन की अनुमति नहीं मिलने से भाजपा सांसदों ने सोमवार को दिल्ली सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया उधर दिल्ली सरकार का कहना है कि हरियाणा और उत्तर प्रदेश से प्रदूषित पानी आने की वजह से यमुना में झाग दिख रहे हैं वही

छठ मनाने की शुरुआत यमुना के जहरीले पानी में आस्था की डुबकी लगाकर की गई

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने छठ पूजा पर अलग-अलग जगहों पर 800 अस्थाई घाटों का निर्माण करवा रही है यहां टेंट, लाइट पीने के पानी साफ सफाई व सुरक्षा के समुचित इंतजाम होंगे।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...