HomeIndia3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता...

3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता चली तो पैरो तले खिसकी जमीन

Published on

पेट लवर्स को जानवर पालने का बहुत शौक होता है।उन्हें जानवरों को पालने का बस बहाना चाहिए। आमतौर पर पेट रखने वाले लोगों को उनके पालतू जानवरों के बारे में सब कुछ पता होता है।वो उनकी पसंद-नापसंद के बारे में भी जानते हैं पर क्या आपने कभी सोचा है कि कोई पेट लवर कई दिनों तक किसी जानवर को कोई और ही जानवर समझकर पाल ले?

ऐसा ही कुछ हुआ पेरू के परिवार के साथ जिसने कई दिनों तक हस्की कुत्ता समझकर एक अलग जानवर को पाल लिया मगर उनको जब पता चला तो वो दंग रह गए।

3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता चली तो पैरो तले खिसकी जमीन

पेरू के कोमास शहर में रहने वाली मारिबेल सोटेलो ने हाल ही में जंगल विभाग के लोगों को तब कॉल किया जब उनके पेट डॉग ने पड़ोस के पोल्ट्री फार्म से चिकेन पकड़ना मारना शुरू कर दिया।

पड़ोस के लोग भी शिकायत करने लगे तो जंगल विभाग के लोग कुत्ते को पकड़ने पहुंचे तो वो उसे देखते ही शॉक्ड रह गए।वो इसलिए क्योंकि वो पालतू जानवर कुत्ता नहीं था।

3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता चली तो पैरो तले खिसकी जमीन

आपको जानकर हैरानी होगी कि लोमड़ी को कुत्ता समझकर परिवार पाल रहा था। महिला ने बताया कि उन्होंने खुद इस बात को गौर किया था कि उनका कथित कुत्ता रन-रन दूसरे जानवरों को दौड़ा रहा था और उन्हें पकड़ रहा था।

महिला ने कहा- “मेरे बेटे को पेट पालने का बहुत शौक था इसलिए उसने कुत्ता पालने का मन बनाया।ये जानवर मेरे बेटे को 900 रुपये से ज्यादा का मिला था। कुछ दिनों बाद ही कुत्ता अजीबोगरीब हरकतें करने लगा तो हमें डाउट हुआ।”

3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता चली तो पैरो तले खिसकी जमीन

महिला ने बताया कि जब उनका बेटा कुत्ते को घर लाया तो उसे चोट लगी थी। उन्होंने उसकी खूब देखभाल की।कुछ ही दिनों में वो ठीक हो गया और उसे दूसरे कुत्तों के साथ खेलने के लिए छोड़ दिया गया।शुरुआत में तो वो कुत्तों के साथ खेलता था मगर लोमड़ी होने के चलते वो अपना असली रंग कुछ दिनों में दिखाने लगा।

वो पड़ोसियों के चिकेन, बत्तखें आदि पकड़ने लगा और कई को तो उसने मार भी डाला।जब पड़ोसियों ने मारिबेल से शिकायत की और बदले में पैसे मांगे तो उसने वन विभाग के लोगों को कॉल की।उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि ‘रन-रन’ असल में कुत्ता नहीं लोमड़ी है।

3 महीने से जिसे कुत्ता समझकर पाल रहें थे, उसकी सच्चाई पता चली तो पैरो तले खिसकी जमीन

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...