HomeFaridabadयातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के...

यातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के लिए करेगी यह काम

Published on

औद्योगिक नगरी फरीदाबाद में बेसहारा पशुओं की वजह से आए दिन हादसे होते रहते हैं। नगर निगम नहीं कई बार इन पशुओं को पकड़ने का अभियान चलाया परंतु यह सब विफल होते हुए दिखाई दिए। सर्दियों में कोहरे की वजह से भी काफी हादसे होते हैं इन्हें रोकने के लिए यातायात पुलिस अब आगे आई है।

सड़क हादसे ना हो इसको लेकर अब पुलिस प्रशासन ने कमर कस ली है और बेसहारा पशुओं की गर्दन में रिफ्लेक्टर टेप लगाने का काम किया जाएगा। इस टेप से काफी हद तक रोड दुर्घटनाओं में कमी आएगी।

यातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के लिए करेगी यह काम

इंसान ही नहीं बल्कि रिफ्लेक्टिव टेप लगाने का उद्देश्य जानवरों को भी सुरक्षित करना है। फरीदाबाद में स्ट्रीट लाइट ना होने के कारण भी दुर्घटनाएं होती हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि रिफ्लेक्टर टेप पशुओं की गर्दन पर कैसे लगाई जाएंगी तो जान लीजिए। यातायात पुलिस के अनुसार रस्सी में ही रिफ्लेक्टर टेप चिपकाए जाएगी जिसे पशुओं के गर्दन में डाल दिया जाएगा।

यातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के लिए करेगी यह काम

शाम के लिए सभी ने यातायात पुलिस कर्मियों का सहयोग लिया जाएगा अंधेरे के साथ-साथ कहना अधिक होने के कारण भी दुर्घटना हो जाती है आपको बता दें कि सबसे ज्यादा परेशानी बेसहारा पशुओं के बाईपास रोड पर है 26 किलोमीटर लंबी बाईपास रोड पर जगह-जगह डंपिंग स्टेशन खोले हुए हैं। यह कचरा सड़क पर भी पड़ा रहता है जिसके कारण आसपास काफी बेसहारा पशु आ जाते हैं जो इन खाने की चीजों को ढूंढते हैं और मुंह मारते हैं।

यातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के लिए करेगी यह काम

साथ ही साथ उसी सड़क पर आराम करते हुए नजर आती हैं। स्ट्रीट लाइटें न जलने के कारण भी बहुत सी दुर्घटनाएं होती हैं। फरीदाबाद में काफी ऐसी जगह है जहां पर बेसहारा पशुओं की तादाद काफी ज्यादा है। नगर निगम के रिकॉर्ड की बात करें तो शहर में 15,000 से ज्यादा बेसहारा पशु है जो सड़कों पर घूमते हुए दिखाई देते हैं।

यातायात पुलिस ने उठाया नगर निगम का बीड़ा, सड़क हादसे रोकने के लिए करेगी यह काम

बहुत से पशु पालक ऐसे हैं जो सुबह पशुओं को सड़क पर छोड़ देते हैं और यह पशु शाम को घर चले जाते हैं। गौशालाओं की बात करें तो पशुओं के लिए आश्रय की व्यवस्था 4600 के करीब है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...