Online se Dil tak

फरीदाबाद के 23 साल के नेता से घबराई वामपंथी लॉबी, चला रहे हैं गिरफ्तारी का कैंपेन

वैसे तो हमेशा से ही ऐसा चलता रहा है कि समाज के खिलाफ लड़ने और लोगों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने वाले को हमेशा ही विपक्ष द्वारा दबाने और डराने धमकाने का प्रयास किया जाता है। मगर वह कहते हैं ना सत्य कभी झुकता नहीं और सत्य को सहारा देने वाले समर्थन में कभी पीछे हटते नहीं है। ऐसा ही एक ताजा उदाहरण फरीदाबाद जिले में भी देखने को मिल रहा है।

जहां हिंदुत्व समाज के लिए मिसाल बने नवयुवक जीत वशिष्ठ जो बजरंग दल के सदस्य होने के साथ-साथ व समाज के प्रति निस्वार्थ भाव से सेवा करने में हमेशा ही तत्पर रहते हैं। दरअसल, कुछ अन्य समुदायों को जित वशिष्ठ का हिंदुत्व समाज के लिए निस्वार्थ भाव से कार्य करना रास नहीं आ रहा और उनके द्वारा जीत को लेकर ट्विटर अकाउंट पर चर्चा की जा रही हैं, उसे आतंकवादी संगठन से जोड़ कर उसे जान से मारने तक की धमकी दी जा रही हैं।

फरीदाबाद के 23 साल के नेता से घबराई वामपंथी लॉबी, चला रहे हैं गिरफ्तारी का कैंपेन
फरीदाबाद के 23 साल के नेता से घबराई वामपंथी लॉबी, चला रहे हैं गिरफ्तारी का कैंपेन

ऐसे में जीत वशिष्ठ के साथ मुंह तोड़ जवाब देने के लिए बीजेपी लीडर कपिल मिश्रा भी उनके लिए सरकार से समर्थन के साथ सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। जित वशिष्ठ का साथ देते हुए भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट करते हुए जहां एक तरफ जित का समर्थन किया है, वहीं दूसरी तरफ उन्होंने उसके लिए सुरक्षा की मांग करते हुए लिखा है कि

फरीदाबाद के 23 साल के नेता से घबराई वामपंथी लॉबी, चला रहे हैं गिरफ्तारी का कैंपेन

जीत वशिष्ट के खिलाफ झूठ से भरे कैंपेन को चलाया जा रहा है, ऐसे झूठे ट्वीट के चलते ही जित वशिष्ठ को जान से मारने की धमकियां भी मिल रही है। मगर ऐसे झूठे ट्वीट और धमकियों से जीत वशिष्ठ डरने वाला नहीं है। उन्होंने जित को हौसला देते हुए डटे रहने की प्रेरणा दी है।

फरीदाबाद के 23 साल के नेता से घबराई वामपंथी लॉबी, चला रहे हैं गिरफ्तारी का कैंपेन

उन्होंने यह तक कहा कि सत्य और बजरंगबली जित वशिष्ट के साथ है, तो उनका कोई भी बाल बांका नहीं कर सकता। बस उन्हें जरूरत है कि वह अपने मुकाम पर डटे रहे और किसी से भी ना डरे। निडर होकर जिस मार्ग पर चल रहे हैं उसी मार्ग पर आगे बढ़ते रहें सब उनके साथ हैं।

Read More

Recent