Online se Dil tak

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

हर देश किसी न किसी संविधान से ही चलता है और ये संविधान अलग अलग कानूनों से मिलकर बनता है। भारत के संविधान की बात करें तो यह कई देशों के संविधान से मिलकर बना है। लेकिन दुनिया में ऐसे बहुत से कानून है जो अगर भारत में लागू होते तो आज का यह भारत हम सिर्फ सोच ही सकते थे। दुनिया में कानूनों की बात की बात की जाए तो हम सऊदी अरब को नहीं छोड़ सकते। क्योंकि यह बात किसी से भी छिपी नहीं है कि दुनिया का सबसे कठोर और खतरनाक कानून सिर्फ सऊदी अरब में है। यहां चोरी पर हाथ काट दिए जाते हैं वहीं बलात्कार पर गला। आज हम आपको सऊदी अरब के कुछ ऐसे कानून बताएंगे जिसे सुनकर आप भी सोचने को मजबूर हो जाओगे।

बता दें कि सऊदी अरब में कुल जनसंख्या का आधा भाग युवा है। यहां हर तीसरे व्यक्ति उम्र 35 साल से कम है। यहां महिलाओं की संख्या कम और पुरुषों की ज्यादा है। दुनिया में सऊदी अरब एकमात्र ऐसा देश है जहां पर कुरान को ही संविधान माना जाता है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार
सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

दरअसल यह देश शरीयत के कानून के अनुसार चलता है। इस देश की महिलाएं कार नहीं चला सकती, यहां पर महिलाओं का कार चलाना प्रतिबंधित है। इस पर कई बार प्रदर्शन भी हुए हैं। लेकिन अभी भी यह प्रतिबंध यथावत लगा हुआ है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

इस्लाम में मक्का मदीना को सबसे पवित्र शहर माना गया है। लेकिन इस देश के मुसलमानों का यहां जाना सख्त मना है। हर साल यहां लाखों तीर्थयात्री आते हैं। यहां आने वाले यात्रियों की संख्या को नियंत्रित करना इनका काम होता है।

साल 2011 में यहां की महिलाओं को वोट डालने की आजादी मिली। सऊदी अरब का लगभग 95 प्रतिशत हिस्सा रेगिस्तान है। यहां विश्व का पांचवे नंबर का सबसे बड़ा मरुस्थल अरेबियन रेगिस्तान है। इसका ज्यादातर हिस्सा सऊदी अरब में ही है। यह सऊदी अरब का सबसे बड़ा रेगिस्तान है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

सऊदी अरब में एक भी पानी का बड़ा स्रोत नहीं है। इसलिए यहां पानी को एक बहुत ही दुर्लभ चीज माना जाता है। सऊदी अरब एक ऐसा राष्ट्र है जो समुद्र के पानी को पीने लायक बना कर उसका इस्तेमाल करता है। सऊदी अरब में तेल का भंडार है। जिसे पूरे विश्व में आयात किया जाता है। यहां पर तेल से ज्यादा पानी महंगा है।

सार्वजनिक रूप से धूम्रपान करना यहां पूरी तरह से बैन है। साल 2012 में यह प्रतिबंध लगाया गया। यहां के लोग साइडवॉक स्कीइंग के बहुत ज्यादा शौकीन होते है। यह अपने ही तरीके का एक खेल है जिसमें कार को सिर्फ दो पहियों पर चलाया जाता है।

सऊदी अरब से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

नंबर 1

यहां महिलाओं को हर समय हिजाब में ही रहना पड़ता है। यहां तक की अगर किसी महिला का रेप होता है तो दोषी को तब तक सजा नहीं मिलती है जब तक की केस के कुल चार गवाह न हों।

नंबर 2

यहां की महिलाएं गैर मर्दों से नहीं मिल सकती। अगर उन्हें किसी पब्लिक प्लेस पर भी जाना है तो किसी घरवाले या घर के एक पुरुष का साथ होना अनिवार्य है। अन्यथा यह कानून तोड़ने के दायरे में आता है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार
सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

नंबर 3

सऊदी अरब दुनिया के उन चुनिंदा देशों में से एक है जहां की महिलाएं पाबंदियों में रहती हैं। उनके लिए खास कानून है। अगर वह घर से बाहर निकलती हैं तो अपने शरीर को पूरी तरह से ढक कर रहती हैं।

नंबर 4

मौत की सजा देने वाले मुल्कों में सऊदी अरब दुनिया में नंबर 4 पर आता है। यहां पर मौत की सजा पब्लिक के सामने गला काटकर दी जाती है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

नंबर 5

यह दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जहां की महिलाओं को बैंक अकाउंट खोलने के लिए पति से इजाजत लेनी पड़ती है। अन्यथा अकाउंट नहीं खुलेगा।

नंबर 6

यदि आप सऊदी अरब में पोर्न देखते हुए पाए गए तो आपके ऊपर कानूनी कार्यवाही हो सकती है। यहां पर इसके लिए अलग कानून है जिसके तहत दंड भी दिया जाता है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

नंबर 7

यहां की महिलाएं जहाज तो उड़ा सकती हैं लेकिन कार नहीं चला सकती। पूरे देश में महिलाओं की कार ड्राइविंग पर सख्त पाबंदी है।

नंबर 8

यहां आप वैलेंटाइन डे भी नहीं मना सकते। इस समय दुकानदारों को दिल के आकार की चीजे रखने पर भी रोक है।

सऊदी अरब के अजीब हैं यह 10 कानून, अगर भारत में होते तो जीना होता दुश्वार

नंबर 9

साल 2012 में महिलाओं की समान वाली दुकान पर भी पुरूष ही काम करते थे लेकिन फिलहाल इस कानून पर रोक लगा हुआ है।

Read More

Recent