Homeकभी खाने को नसीब नहीं होती थी रोटी, फिर इस बच्चे ने...

कभी खाने को नसीब नहीं होती थी रोटी, फिर इस बच्चे ने यूँ तय किया फर्श से अर्श का सफर

Array

Published on

जीवन में हमें कभी हार नहीं माननी चाहिए। समय बदलते वक्त नहीं लगता है। इस दुनिया में जिस इन्सान में कला होती है और उसमे हिम्मत होती है किसी भी काम को करने की वो इन्सान अपनी किस्मत खुद बदल सकता है और उसके लिए ये जरूरी नहीं होता की उसकी फाइनेंसियल कंडीशन कैसी है ,उसके परिवार का बैकग्राउंड कैसा है बल्कि वो खुद अपने हिम्मत और लगन से अपना और अपने परिवार की जिंदगी बदलने की ताकत रखता है।

बुरे दिन कब समाप्त हो जाएँ कहा नहीं जा सकता है। आपको बस खुद पर यकीन रखना होता है। कला किसी की मोहताज नहीं होती है। कला के दम पर इंसान कुछ भी हासिल कर सकता है। ये बच्चा बेहद ही छोटी सी उम्र में अपनी कला के दम पर न सिर्फ अपना बल्कि अपने परिवार का भी सहारा बना और जहाँ पहले उसके परिवार वाले दो वक्त की रोटी के इंतजाम के लिए भी कड़ा संघर्ष किया करते थे और ये बच्चा लाखों रुपये कमाकर अपने परिवार की जिंदगी सवांर दी है।

कभी खाने को नसीब नहीं होती थी रोटी, फिर इस बच्चे ने यूँ तय किया फर्श से अर्श का सफर

कई लोग इस बच्चे से प्रेरणा ले रहे हैं। हर किसी का कहना है कि यह बच्चा अलग ही है। कभी इनके घर पर खाने को रोटी भी नहीं होती थी। खाने को तरसा करते थे। लेकिन हम जिस बच्चे की बात कर रहे है वो कोई और नहीं बल्कि सोनी टीवी के फेमस कॉमेडी शो द कपिल शर्मा शो में नजर आने वाला बच्चा खजूर है। जिसका असली नाम कार्तिकेय राज है।कार्तिकेय को कपिल शर्मा शो में खजूर के किरदार से काफी ज्यादा पॉपुलैरिटी हांसिल हुई है।

कभी खाने को नसीब नहीं होती थी रोटी, फिर इस बच्चे ने यूँ तय किया फर्श से अर्श का सफर

आपको खुद पर और आपकी कला पर यकीन हो तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं। आज ये बच्चा अपनी शानदार अदाकारी से से लोगो को चेहरे पर मुस्कान लाने में कामयाब है। अपनी खुद की एक अलग पहचान इसने बना ली है। कई लोग इस किरदार को पसंद कर रहे हैं। खजूर की जिंदगी बेहद ही कठिनाई से व्यतीत हो रही थी और दो वक्त की रोटी भी इनके परिवार को बेहद मुश्किल से नसीब होती थी।

कभी खाने को नसीब नहीं होती थी रोटी, फिर इस बच्चे ने यूँ तय किया फर्श से अर्श का सफर

इसने अपने परिवार की सारी गरीबी को दूर कर दिया है। खजूर का नाम कार्तिकेय राज है वो बिहार की राजधानी पटना के रहने वाले है। इस चाइल्ड आर्टिस्ट की उम्र मात्र 13 साल की है और इनती छोटी सी उम्र में इस बच्चे ने इतना ज्यादा नाम कमा लिया है की आज हर कोई इस बच्चे को खजूर के नाम से जानने लगा है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...